Posted On by &filed under Judgements.


Lok Sabha Debates
Presentation Of The Statement Of The Estimated Receipt And … on 24 February, 2006


>

Title : Presentation of the statement of the estimated receipt and expenditures of the Government of India for the year 2006-07 in respect of Railways.

रेल मंत्री (श्री लालू प्रसाद) :

1.         माननीय अध्यक्ष महोदय, मैं भारतीय रेल वे लिए वर्ष २००६-२००७ वे बजट अनुमान ऐसे समय प्रस्तुत करने वे लिए खडा हुआ हूँ जब भारतीय रेल की वित्तीय स्थित का ऐतिहासिक कायाकल्प हुआ है। हमारे पंड बैलेंस बढकर ११ हजार करोड रुपये एवं लाभांश पूर्व आंतरिक संसाधन भी ११ हजार करोड रुपये वे ऐतिहासिक स्तर पर पहुँच गए हैं। यह अभूतपूर्व उपलब्ध हासिल कर हमने माननीय प्रधानमंत्री जी वे भारतीय रेल को दुनिया की नंबर एक रेल बनाने वे सपने को साकार करने की ओर तेजी से कदम बढ़ाया है। महोदय, यह वही भारतीय रेल है जो २००१ में डविडेंड का भुगतान करने से चूक गई थी, जिसवे पंड बैलेंस घटकर मात्र ३५० करोड रुपये रह गये थे एवं जिसवे बारे में विशेषज्ञ कहने लगे थे क यह ऋण संकट वे ऐसे जाल में पंस चुकी है जिसका कोई इलाज नहीं है। आप इसे चमत्कार कह सकते हैं, लेकिन  मुझे पक्का यकीन था क :

मैं आप लोगों को धन्यवाद देता हूं………..(व्यवधान) आप लोगों को मेरी बात सुनने का धैर्य रखना चाहिए।

उपाध्यक्ष महोदय : उन्होनें डिसाइड किया है कि वे आज आपकी बात सुनेंगे ।

श्री लालू प्रसाद : अच्छे लोग हैं ।

                        मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा

                        इसी सियाह समन्दर से नूर निकलेगा।

           

2.         महोदय, आज पूरा देश देख रहा है क पटरियाँ वही हैं, रेलकमर्ी वही हैं मगर भारतीय रेल की तस्वीर नये नूर से खिल उठी है। लाखों रेलकर्िमयोंने अपनी सूझबूझ, लगन एवं पक्वे इरादे से इसे अंजाम दिया है। महोदय, अभी तक यह मान्यता रही है क द्वितीय श्रेणी वे यात्री किरायों में वृद्ध किये बिना रेलवे की वित्तीय स्थित में सुधार नहीं लाया जा सकता है। लेकिन मेरी सोच इससे एकदम अलग है।  मेरी नजर में सेवा की गुणवत्ता में सुधार, प्रत इकाई लागत में कमी एवं इसका लाभ ग्राहकों वे साथ बाँटने से ही स्थित में सुधार लाया जा सकता है। इसीलिए, पुरानी लीक पर चलने वे बजाए हमने नये रास्ते पर कदम बढ़ाने का पैसला किया :

            हम भी दरिया हैं, अपना हुनर हमें मालूम है

            जिस तरफ भी चल पड़ेगे, रास्ता बन जाएगा.

 

* Also Placed in Library, See No. LT 3703/06

चालू वर्ष में निष्पादन

 

3.         महोदय, मुझे सदन को यह जानकारी देते हुए गर्व हो रहा है क वर्ष २००५-२००६ वे प्रथम ९ महीनों में रेलवे ने रिकार्ड तोड उपलब्ध हासिल की है। फ्रेट लोडिंग में १० प्रतिशत एवं माल लदान से प्राप्त आय में १८ प्रतिशत से अधिक की वृद्ध हुई है। अभी तक प्राप्त रुझानों वे मद्देनजर संशोधित अनुमानों में फ्रेट लोडिंग का लक्ष्य ६३५ मलियन टन से बढ़ाकर ६६८ मलियन टन एवं माल आमदनी का लक्ष्य ३३ हजार ४८० करोड रुपये से बढाकर ३६ हजार ४९० करोड रूपये रखा गया है। इस प्रकार वेवल दो वर्षों में रेलवे द्वारा १११ मलियन टन की इन्क्रीमेन्टल फ्रेट लोडिंग की जाएगी जो नवम् पंचवषर्ीय योजना की समस्त अवध में की गई 83 मलियन टन की इन्कीमेन्टल लोडिंग से १३३ प्रतिशत अधिक है। दसवीं पंचवषर्ीय योजना वे लिए निर्धारित ६२४ मलियन टन फ्रेट लोडिंग एवं ३९६ बलियन टन किलोमीटर वे लक्ष्य को एक वर्ष पूर्व ही प्राप्त कर लिया गया है। महोदय, मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है क हम दसवीं पंचवषर्ीय योजना में माल व्यवसाय वे लिए निर्धारित इन्कीमेन्टल लक्ष्य ६३ बलियन टन किलोमीटर वे विरुद्ध २०० प्रतिशत से अधिक उपलब्ध हासिल करेंगे।

 

4.         संशोधित अनुमानों वे अनुसार यात्री आय, अन्य कोचिंग आय एवं वविध आय में कमश: ७ प्रतिशत, १९ प्रतिशत एवं ५६ प्रतिशत की वृद्ध होने की संभावना है। संशोधित अनुमानों वे अनुसार सकल यातायात आय ५४ हजार ६०० करोड रुपये होने की संभावना है जो गत वर्ष की अपेक्षा १६ प्रतिशत एवं बजट अनुमानों से ७ प्रतिशत अधिक है।

 

5.         प्रमुख रूप से ईंधन की कीमतों में बजट उपरांत भारी वृद्ध वे कारण परिचालन खर्च में १ हजार २०० करोड रूपये की वृद्ध होने की संभावना है। वित्तीय लीज़ पर लिये गये रोलिंग स्टॉक वे लीज़ प्रभार की राश ब्याज एवं मूलधन अदायगी से संबंधित भागों को अलग किये बगैर परिचालन खर्च वे रूप में दिखाई जाती रही है। जैसा क मैंने पिछले बजट भाषण में उल्लेख किया था, अधिक पारदर्िशता लाने तथा लेखांकन प्रथा को बेहतर बनाते हुए लीज़ प्रभार की लेखावंन प्रकिया में आवश्यक परिवर्तन जरूरी अनुमोदन लेते हुए कर दिया गया है। लेखा पद्धत में किये गये उत्त परिवर्तनों वे कारण परिचालन खर्च १ हजार ६१६ करोड रुपये कम हो गया है। कुल मिलाकर संशोधित अनुमानों में साधारण संचालन व्यय ३५ हजार १८४ करोड रुपये रखा गया है जो बजट अनुमानों से ४१६ करोड रुपये कम है। लेखा पद्धत में किये गये उत्त परिवर्तनों वे प्रभावस्वरूप ऑपरेटिंग रेशियो में भी लगभग ३ प्रतिशत का सुधार परिलक्षित हुआ है।

 

6.         चालू वर्ष वे संशोधित अनुमानों वे अनुसार भारतीय रेल वे लाभांश पूर्व आंतरिक संसाधन १२ हजार ९६६ करोड रुपये वे ऐतिहासिक स्तर पर पहुँच जाएंगे। ऊपर बताये गये लेखांकन संबंधी परिवर्तन वे असर को हटाने वे बाद भी यह राश ११ हजार ३५० करोड रुपये होगी। पंड बैलेंस बढ़ाकर ११ हजार २८० करोड रूपये का एक नया कीर्ितमान स्थापित करेंगे एवं आपरेटिंग रेशियो सुधरकर ८३.७ प्रतिशत होने की संभावना है।

 

तकनीकी उन्नयन एवं आधुनिकीकरण

 

7.         रेलवे वविर्ंंग वे प्रत्येक क्षेत्र में तकनीकी संवर्द्धन को सवर्ोच्च प्राथमिकता दी जाएगी ताक सेवाओं की विश्वसनीयता में सुधार लाकर ग्राहकों का विश्वास जीता जा सवे एवं परिचालन खर्च एवं रख-रखाव की लागत में कमी लाई जा सवे।

 

8.         वैगन रेलवे का कमाऊ घोडा है। ९० वे दशक में रेलवे ने इंजन एवं पैसेंजर कोच की तकनीक का तो आधुनिकीकरण किया लेकिन मालडिब्बे अभी भी ८० वे दशक की तकनीक वाले चल रहे हैं। हमारे कवर्ड एवं ओपन वैगनों में कुछ भारी वस्तुओं को छोडकर अन्य वस्तुओं को ६४ टन से अधिक लोड करना संभव नहीं है। आरडीएसओ में ऊँची वॉल्यूम क्षमता वाले वैगनों वे नए डिजाइन तैयार किए जा रहे हैं। इन नए वैगनों में कोयला जैसी वस्तुएं भी ७० टन तक लोड की जा सवेंगी। आगामी वर्ष में इन वैगनों वे प्रोटोटाइप बनाकर ट्रायल पूरे कर लिए जाएंगे और २००७-२००८ से नए डिजाइन वाले वैगनों का नियमित उत्पादन शुरू हो जाएगा जिनका पे-लोड टेयर-वेट रेशियो तीन-एक से भी बेहतर होगा। पे-लोड टेयर-वेट रेशियो में सुधार लाने वे लिए एल्युमनियम एवं स्टेनलेस स्टील वे वैगन का निर्माण कार्य भी वर्ष २००६-२००७ में प्रारंभ करने वे हर संभव प्रयास किये जाएंगे।

 

9.         महोदय, यह एक महत्वपूर्ण उपलब्ध है लेकिन इतना ही काफी नहीं है। हमें भविष्य में २५ टन एक्सल लोड वे ऐसे वैगन तैयार करने हैं जिनमें ८० टन तक माल लोड किया जा सवे और जिनका पे-लोड टेयर वेट रेशियो लगभग चार-एक हो। हमें मोटरवाहन, पेट्रोवेमिकल आद वस्तुओं वे परिवहन में रेलवे की हिस्सेदारी बढ़ाने वे लिए स्पेशल वैगन तैयार करने होंगे। वर्तमान में यह तकनीक देश में उपलब्ध नहीं है। अत: हमें नई तकनीक वे वैगन विकसित करने वे लिए ट्रांसफर ऑफ टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देना होगा जिसवे लिए रेलवे नीतिगत ढांचा तैयार करेगी।

 

आधुनिक सिगनलिंग एवं दूरसंचार तकनीकों का उपयोग

 

10.       विश्व की विकसित रेलों पर आधुनिक सिगनलिंग एवं दूरसंचार तकनीकों का उपयोग संरक्षा बढ़ाने, रेलगाडियों वे परिचालन को सुव्यवस्थित करने एवं लाइनों की क्षमता बढ़ाने वे लिए व्यापक रूप से किया जा रहा है। ऐसी तकनीकों का उपयोग लाभप्रद होता है। अत: हमने मुख्य मार्गों पर संरक्षा एवं लाइन क्षमता का विकास करने वे लिए आधुनिक सिगनलिंग एवं दूरसंचार विकल्पों का गहन अध्ययन करने वे लिए एक बहुविभागीय कार्यदल का गठन करने का निर्णय लिया है। यह दल तीन माह वे अंदर अपनी रिपोर्ट देगा जिसकी समीक्षा वे बाद इन तकनीकों का व्यापक उपयोग सुनिश्चित करने वे लिए नीत बनाई जाएगी।

रेल सेवाओं वे सुधार में आई.टी. का उपयोग

 

11.       माल-परिवहन परिचालन सूचना-प्रणाली से माल परिवहन की ऑपरेटिंग कार्यकुशलता में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। इस योजना वे प्रथम चरण में रेक मैनेजमेंट सिस्टम सभी प्रमुख स्थानों पर लागू हो चुका है। दूसरे चरण में आगामी वर्ष वे अंत तक टर्िमनल मैनेजमेंट सिस्टम सभी प्रमुख स्थानों पर लागू हो जाएगा। इसवे अतरित्त वंट्रोल चाटिर्ंंग, क्रू-मैनेजमेंट एवं कोचिंग परिचालन सूचना प्रणाली पर भी तेजी से काम चल रहा है। अगले वर्ष वंट्रोल चाटिर्ंंग सिस्टम सभी डिवीजनों में लागू करने का हर संभव प्रयास किया जायेगा। वंट्रोल ऑफिस वे पूर्ण वंप्यूटरीकरण, कोचिंग परिचालन सूचना प्रणाली में प्रगत और इन दोनों प्रणालियों को राष्ट्रीय ट्रेन पूछताछ प्रणाली से जोडने का सीधा लाभ यात्रियों और अन्य रेल उपयोगकर्त्ताओं को होगा।

 

12.       रेलवे प्रतदिन २ हजार ५०० से अधिक साधारण पैसेंजर गाडियाँ चलाती है। स्पीड एवं लाइन क्षमता वे द्ृष्टिकोण से मेमू एवं डेमू गाडियाँ कुछ परिस्थितियों में ज्यादा उपयुत्त होती हैं। अत: हमने निर्णय लिया है क हम भविष्य में मेमू एवं डेमू गाडियों की संख्या बढयाएंगे। इससे न वेवल लाइन क्षमता में वृद्ध होगी बल्क यात्रा समय में भी कमी होगी।

 

पब्लिक पार्टनरशिप एवं पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप योजनाएं

           

13.       आज जब भारतीय रेल माल एवं यात्री यातायात वे क्षेत्र में ऐतिहासिक उपलब्धियाँ हासिल कर रही है, हम संसाधनों की कमी को रेल नेटवर्व वे विस्तार में आड़ नहीं आने देंगे। रेल नेटवर्व वे विस्तार एवं विकास तथा रेल सेवाओं में उल्लेखनीय सुधार लाने वे लिए हम पब्लिक पार्टनरशिप एवं पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप योजनाओं को बढ़ावा देंगे। इसी कड़ी में पब्लिक-प्राईवेट पार्टनरशिप नीत को और सुलभ बनाकर निवेशकर्त्ताओं को एक पारदशर्ी नीत वे तहत भेद-भाव रहित वातावरण उपलब्ध कराया जाएगा। यही समय की माँग है :-

 

एक कदम हम बढ़े, एक कदम तुम

आओ मिलकर नाप दें, फासले चाँद तक.

 

14.       हम राज्य सरकारों, स्थानीय निकायों, बन्दरगाहों एवं प्राइवेट सेक्टर को रेल परियोजनाओं में निवेश करने वे लिए आमंत्रित करते हैं। रेल मंत्रालय पब्लिक पार्टनरशिप एवं पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप वे अनेक मॉडल उपलब्ध करायेगा। अभी तक एमओयू वे आधार पर एसपीवी द्वारा ऐसीयोजनाओं का कियान्वयन किया जा रहा है। अब इसनीत वे अंतर्गत उपयुत्त रेल परियोजनाओं को खुली नविदा वे माध्यम से भी अवार्डकिया जाएगा ताक पूरी प्रकिया को प्रतियोगी एवं पारदशर्ी बनाते हुए सभी पार्िटयों को भेद-भाव रहित वातावरण  उपलब्ध कराया जा सवे। अलाभप्रद योजनाओं वे लिए यथोचित गैप पंडिंग की व्यवस्था कर ऐसीभागीदारियों को प्रोत्साहित करने का निर्णय भी लिया गया है। वर्तमान में कई हजार करोड रुपयेवे निवेश वाली भागीदारी योजनाएं कियान्वित की जा रही हैं। हम इस भागीदारी वे आकार एवं स्वरूप को कई गुनाबढ़ाकर रेल नेटवर्व वे विस्तार एवं विकास वे कार्य को गत देना चाहतेहैं।

15.       हम कई राज्य सरकारों वे साथ मिलकर ५०० आरओबी का निर्माण लागत में भागीदारी वे आधार पर कर रहे हैं। महोदय, मैं सदन वे माध्यम से सभी राज्य सरकारों एवं स्थानीय निकायों से अनुरोध करना चाहता हूँ क आरओबी निर्माण वे कार्यमें आगे आएं।मैं सदन को आश्वस्त करना चाहताहूँ क रेलवेएक हजार आरओबी वे निर्माण कार्य में लगने वाली 15 हजार करोड रुपये की राश में से अपने हिस्से की सात हजार पाँचसौ करोड रुपयेकी राश उपलब्ध कराने में पीछेनहीं हटेगी। राज्य सरकारों द्वारा अपनेहिस्से की राशउपलब्ध कराने की सहमत वे साथ आरओबी निर्माण वे जितने भी नियमानुकूल प्रस्ताव प्राप्तहोंगे उन्हें अविलंब स्वीकृत किया जाएगा।

 

16.       निजी पार्िटयों को वंटेनर ट्रेन चलाने की अनुमत देने संबंधी हमारी नीत को व्यापक समर्थन मिला है। १४ आवेदनकर्त्ताओं ने ५४० करोड रुपये रजिस्ट्रेशन फीस वे रूप में जमा किये हैं। सभी योग्य आवेदनकर्त्ताओं को ३१ मार्च से पूर्व वंटेनर ट्रेन चलाने की अनुमत दे दी जाएगी एवं मॉडल कन्शेसन एग्रीमेंट भी चालू वर्ष वे अंत तक तैयार कर लिया जाएगा। मैं सदन वे माध्यम से सभी स्टेक होल्डर्स को आश्वस्त करना चाहूँगा क उन्हें भेद-भाव रहित वातावरण उपलब्ध कराया जाएगा।

 

17.       महोदय, मुझे सदन को यह जानकारी देते हुए खुशी हो रही है क भारतीय उपमहाद्वीप में पहली बार डबल स्टैक वंटेनर ट्रेन का शुभारंभ मार्च वे प्रथम सप्ताह में कर दिया जाएगा। इससे रेल द्वारा वंटेनर परिवहन और किफ़ायती एवं प्रतियोगी बन सवेगा।

 

18.       नई वंटेनर नीत की सफलता एवं नॉन-बल्क माल व्यवसाय में रेलवे की हिस्सेदारी बढ़ाने वे लिए रेल से जुड़े वंटेनर डिपो एवं समेकित लॉजिस्टिक्सपार्व बनाने होंगे। रेलवे वे अनेक मालगोदामों में काफी जमीन उपलब्ध है जिसका उपयोग उत्त कार्यों वे लिए किया जा सकता है। इस संबंध में हम शीघ्र ही एक पारदशर्ी नीत बनाकर सार्वजनिक-निजी भागीदारी योजना वे तहत इनवे निर्माण को प्रोत्साहित करेंगे। इस नीत से हम वंटेनर डिपो एवं वंटेनर वैगन में अच्छा निवेश प्राप्त करने में सफल हो सवेंगे। आज माननीय वित्त मंत्री जी पानी पिला रहे है । …(व्यवधान)

श्री हरिन पाठक (अहमदाबाद) ये तो सभी को पानी पिलाते है…(व्यवधान)

श्री लालू प्रसाद: 19.         गत वर्ष मैंने नई वैगन निवेश योजना शुरू  की थी। यह योजना ग्राहकों वे बीच लोकप्रिय हुई है और अभी तक २५० करोड रुपए वे निवेश पर २५ रेक निर्माण वे प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं।

 

20.       वस्तु विशेष यथा मोटरवाहन आद वे परिवहन वे लिए स्पेशल वैगन की जरूरत होती है जो अभी इस योजना में शामिल नहीं हैं। नये वंटेनर ट्रेन ऑपरेटर्स को भी वंटेनर फ्लैट वैगन की बडाृ संख्या में जरूरत होगी। वर्तमान नीत वे अनुसार ग्राहक वैगन की सीधी खरीद कर ही वैगन निवेश योजना एवं नई वंटेनर नीत का लाभ उठा सकते हैं,  जबक परिवहन वे अन्य क्षेत्रों में ट्रक, वायुयान इत्याद लीज़ पर लेकर चलाने का प्रचलन है। अत: हमें एक मजबूत वैगन लीज़िंग मावर्ेट विकसित करना होगा जिसवे लिए हम अनुकूल नीतिगत पहल करेंगे।

 

माल व्यवसाय में रिकार्ड तोड निष्पादन

 

 

21.       हम चालू वर्ष में ११ प्रतिशत की ऐतिहासिक वृद्ध दर्ज करते हुए ६६८ मलियन टन की लोडिंग करने का एक नया कीर्ितमान बनाने की ओर तेजी से अग्रसर हो रहे हैं। यह लगातार दूसरा साल है जब हमने अर्थव्यवस्था की प्रगत दर से अधिक वृद्ध दर्ज कर माल लदान वे बाजार में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई है । यह रिकार्ड तोड उपलब्ध पिछले दो वर्षों में वैगन टन राउंड टाइम घटाकर एवं प्रत वैगन चार से आठ टन लोड बढ़ाकर प्राप्त की गई है। इससे हमारी माल लदान क्षमता में सौ मलियन टन एवं आय में पाँच हजार करोड रुपये से अधिक की वृद्ध हुई है। यही हमारे वित्तीय कायाकल्प की नींव का पत्थर है।

 

22.       वैगन की लदान क्षमता में मात्र एक टन की वृद्ध करने से हमारी वार्िषक लदान क्षमता में एक करोड टन की वृद्ध होती है। पिछले दो वर्षों में हमने प्रमुख वैगनों की लदान क्षमता में ४ टन प्रत वैगन की वृद्ध कर रेलवे की वार्िषक लदान क्षमता में ४ करोड टन की वृद्ध की है। इतना ही नहीं हमने चुनिंदा मागर्ो पर २३ टन एक्सल लोड की बॉक्सन मालगाडियां चलाना शुरू कर हैवी एक्सल लोड की मालगाडियां चलाने वाले चंद देशों की श्रेणी में अपनी उपस्थित दर्ज कराई है। इस ऐतिहासिक उपलब्ध वे लिए मैं समस्त रेल परिवार विशेषकर सविल और मैवेनिकल इंजीनियरों को हार्िदक बधाई देता हूँ। महोदय, इन ऐतिहासिक नीतिगत निर्णयों से हमारी माल परिवहन की प्रत इकाई लागत चालू वर्ष में न वेवल स्थिर मूल्यों पर अपितु वर्तमान दरों पर भी वर्ष २००१ की तुलना में कम हो गई है। डीजल वे दामों में भारी वृद्ध एवं वेतन और पेंशन मद में पड़े हजारों करोड रुपये वे अतरित्त भार वे बावजूद हमने प्रत इकाई लागत घटाने की ऐतिहासिक उपलब्ध हासिल की है। प्रतियोगी वातावरण में घटी हुई प्रत इकाई लागत का लाभ ग्राहकों वे साथ बाँटकर ही सफल हुआ जा सकता है। यही हमने किया है।

 

23.       मुझे सदन को यह जानकारी देते हुए हर्ष हो रहा है क हमने एक पायलट प्रोजेक्ट वे रूप में आगामी वर्ष में भारतीय उपमहाद्वीप में पहली बार दो मार्गों पर २५ टन एक्सल लोड की मालगाडियां चलाने का निर्णय लिया है। इन मार्गों वे नाम दिल्ली-राजहरा से भिलाई एवं दईतारी से बांसपानी हैं जो क मुख्य रूप से गैर-यात्री मार्ग हैं। आगामी वर्ष में स्थित का आकलन कर चरणबद्ध तरीवे से २३ एवं २२.३ टन एक्सल लोड की गाड़ियाँ माल परिवहन की द्ृष्ट से महत्वपूर्ण अन्य  मार्गों पर भी चलाई जाएंगी। साथ ही अगले पाँच वर्षों में नये फ्रेट कॉरिडोर वे फीडर रूट्स को सुद्ृढ़ कर २५ टन एक्सल लोड वे उपयुत्त बनाया जाएगा।

 

24.       गत वर्ष हमने मालगाडियों की जांच पद्धत में जो बदलाव किया था, उसवे अच्छे परिणाम सामने आए हैं। इस कार्य को आगे बढ़ाते हुए हमने कुछ चुनिंदा क्लोज सरकिट रेक में ब्रेक पावर सर्िटफिवेट की वैधता ६ हजार से ७ हजार ५०० किलोमीटर कर दी है। रेलवे पेट की औसत लीड बढ़ाने वे उद्देश्य से यातायात वरीयता अनुसूची में संशोधन कर यह व्यवस्था की गई है क उसी श्रेणी वे ऐसे माल को प्राथमिकता दी जायेगी जो ८०० किलोमीटर से अधिक दूरी वे लिए बुक किया जाए।

 

25.       वैगन टर्न राउंड टाइम घटाने वे लिए टर्िमनलों वे विकास एवं ट्रैफिक पैसलिटी कार्यों को सवर्ोच्च प्राथमिकता वे आधार पर कियान्वित किया गया है। प्रमुख साइडिंग एवं गुड्स टर्िमनलों को फुल रेक एवं दिन-रात लोडिंग वाले टर्िमनल में परिवर्ितत करने का प्रयास जारी है। इसवे अतरित्त वैगन रख-रखाव एवं फ्रेट ट्रेन परीक्षण प्रणाली तथा गाडियों वे लोकोमोटिव एवं कू लिंकों का भी युत्तिकरण किया गया है। वस्तुत: रेलवे वे सभी विभागों ने वंधे से वंधा मिलाकर, आपसी तालमेल एवं बेहतरीन टीमवर्व का परिचय देकर ही इस ऐतिहासिक उपलब्ध को अंजाम दिया है।

 

26.       अगले वर्ष में डबल डजिट ग्रोथ बनाये रखने वे लिए हम इन उपायों को और सुद्ृढ़ करेंगे। वैगन टर्न राउन्ड टाइम में कमी वे कम को बनाये रखने वे लिए टर्िमनल इम्प्रूवमेंट तथा ट्रैफिक पैसलिटी कार्यों वे लिए धनराश की कमी नहीं होने दी जाएगी। माल परिवहन में सूचना तकनीक का मैनेजमेंट टूल वे रूप में व्यापक उपयोग किया जाएगा जिससे रेकों  की चुस्त निगरानी एवं पाइप लाइन मैनेजमेंट तथा टर्िमनल मैनेजमेंट सिस्टम को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।

 

27.       माल यातायात की बढ़ती हुई माँग को पूरा करने वे लिए आगामी वर्ष में वैगनों वे निर्माण में २५ प्रतिशत की वृद्ध की जाएगी। इसवे अतरित्त वैगन निवेश योजना एवं नए वंटेनर ट्रेन ऑपरेटर्स द्वारा भी हजारों नये वैगनों का निर्माण कराकर रेल परिवहन वे लिए उपलब्ध कराने की संभावना है। ऐसी संभावना है क वर्ष २००६-२००७ में अभी तक की सबसे बड़ी संख्या में वैगनों का निर्माण का नया कीर्ितमान स्थापित होगा। जिस गत से हमारा माल परिवहन बढ़ रहा है उसे ध्यान में रखते हुए वैगनों की उत्पादन क्षमता का भी निकट भविष्य में विस्तार करना जरूरी होगा। इसी प्रकार विद्युत चालित इंजन वे उत्पादन में १७ प्रतिशत एवं डीजल इंजन उत्पादन में ५ प्रतिशत की वृद्ध करने का प्रस्ताव है। लाइन क्षमता का ऑप्टिमम उपयोग करने वे लिए हाई पावर रेलइंजनों का उत्पादन भी बढ़ाया जा रहा है।

 

यात्री व्यवसाय वे घाटे में कमी

 

28.       महोदय, हमने ‘व्यापार बढ़ाओ, लागत घटाओ’ की रणनीत अपनाकर माल व्यवसाय से प्राप्त होने वाले मुनापे को बढ़ाया है। यही रणनीत अपनाकर हमने यात्री व्यवसाय में होने वाले नुकसान को कम करने का निश्चय किया है। हमने यात्री गाडियों वे कोचों की संख्या एवं ऑक्यूपेन्सी बढ़ाकर, यात्रा समय में कटौती कर तथा वैटरिंग और पार्सल व्यवसाय में हो रहे घाटे को कम कर कोचिंग सेवाओं पर हो रहे घाटे को आगामी वर्ष में लगभग १ हजार करोड रुपये एवं अगले तीन वर्षों में ५० प्रतिशत कम करने का निश्चय किया है ।

 

29.       लोकप्रिय यात्री गाडियों की स्पीड बढ़ाने एवं यात्रा समय घटाने की माँग माननीय सदस्य बराबर करते रहे हैं। महोदय, ब्रैडशॉ वंपनी द्वारा वर्ष १८६६ में पहला ऑल इंडिया रेलवे टाइम-टेबल प्रकाशित किया गया था। यात्री गाडियों की स्पीड बढ़ाने में आधुनिक तकनीक वे रोलिंग स्टॉक, सिगनल एवं ट्रैक संरचना वे पूरे फायदे का टाइम टेबल में अभी तक समावेश नहीं हुआ है। अत: हमने चालू वर्ष वे दौरान आल इंडिया टाइम-टेबल को नए सिरे से अर्थात् जीरो बेस से तैयार करने का निर्णय लिया था। यह कार्य उच्च प्राथमिकता वे आधार पर चल रहा है एवं इसवे लिए आवश्यकता अनुसार कम्प्यूटराइज्ड सिमुलेशन तकनीक का उपयोग भी किया जाएगा। अभी तक की गई समीक्षा वे फलस्वरूप २०० से अधिक मेल एवं एक्सप्रेस गाडियों की स्पीड बढ़ाकर उन्हें सुपर फास्ट ट्रेन बनाया जा रहा है। जीरो बेस पर नया टाइम-टेबल तैयार होने वे उपरांत अधिकांश शताब्दी, राजधानी एवं अन्य मेल-एक्सप्रेस गाडियों वे यात्रा समय में कमी एवं कुछ गाडियों वे यात्रा समय में ४ घंटे तक की कमी होने की संभावना है।

 

30.       महोदय, नई दिल्ली-हावडा राजधानी एक्सप्रेस वे यात्रा समय को भी दो चरणों में
एक-एक घंटे घटाने का प्रयास किया जा रहा है ताक हावडा राजधानी एक्सप्रेस ऑफिस टाइम वे बाद प्रस्थान कर ऑफिस टाइम से पहले हावडा पहुँच सवे।

श्री बसुदेव आचार्य (बांकुरा) : क्या इसमें सियालदाह भी है?

श्री लालू प्रसाद: इसमें नहीं लिखा हुआ है, हम इसके बारे में जवाब में बतायेंगे ।…(व्यवधान)

श्री बसुदेव आचार्य : जो लिखा नहीं है उसे भी बोल दीजिए…(व्यवधान)

श्री लालू प्रसाद:  यह प्रयास नई दिल्ली-पटना सहित सभी राजधानी एक्सप्रेस वे यात्रा समय घटाने वे लिए भी किया जा रहा है ।

 

31.       गाडियों की स्पीड बढ़ाने और रेक लिंक वे बेहतर इस्तेमाल से बचे हुए सवारी डिब्बों का उपयोग लोकप्रिय यात्री गाडियों में डिब्बों की संख्या बढ़ाने में किया जा रहा है। करीब १९० लोकप्रिय यात्री गाडियों में कोचों की संख्या बढ़ाकर २३-२४ तक की जा रही है। इन गाडियों में ५०० से अधिक अतरित्त कोच लगने से वेटलिस्टेड यात्रियों को कन्फर्म टिकट मिल सवेगी और रेलवे को सालाना २०० करोड रूपए से अधिक की आय होगी।

 

32.       लंबी यात्री गाडियाँ चलाने से हमारी ट्रेन किलोमीटर की प्रत इकाई लागत में कमी और प्रत ट्रेन किलोमीटर आय में वृद्ध होती है। अत: २३-२४ कोच की लंबी गाडियाँ चलाने वे लिए दो सौ स्टेशनों वे प्लेटफार्मों की लंबाई बढ़ाने वे लिए ६० करोड रुपए की कार्य योजना को स्वीकृत दी गई है। इसवे अतरित्त लगभग २५० और स्टेशनों वे प्लेटफार्मों की लंबाई को भी बढ़ाया जाएगा। इन कार्यों वे लिए पैसे की कमी नहीं होने दी जाएगी और आगामी वर्ष वे दौरान ऐसी गाडियाँ चलाने वे लिए सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

 

33.       एसी क्लासेस वे लोड पैक्टर में सुधार लाने वे लिए हमने बिना किसी अतरित्त लागत वे निम्न श्रेणी वे यात्री को उच्च श्रेणी में अपग्रेड करने की पायलट योजना २६ जनवरी से शुरू की थी। आज से यह सुविधा सभी राजधानी एवं मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों में उपलब्ध हो गई है। इस योजना से भारतीय रेल एवं यात्री दोनों को ही एक साथ लाभ होगा:-

           

            हम न हारें पर वो जीतें, ऐसा है प्रयास

            मुसाफ़िर हो रेल का राजा, हम सबकी ये आस.

वैटरिंग एवं पार्सल व्यवसाय वे घाटे में कमी

 

34.       हम देशवासियों को सस्ती यात्रा जरूर कराते हैं लेकिन उन्हें मुफ्त में नहीं खिलाते और न ही उनका पार्सल सस्ती दरों पर बुक करते हैं। फिर भी रेलवे को इन पर एक हजार करोड रुपये से अधिक का घाटा हो रहा है।

 

35.       पैंट्री कार और बड़े स्टेशनों की वैटरिंग इकाईयों को खुली नविदा वे माध्यम से लीज पर देने की नीत वे अच्छे परिणाम सामने आये हैं और पैंट्री कार से प्राप्त होने वाली लाईसेंस फीस में कई गुना वृद्ध हुई है। चालू वर्ष की तरह आगामी वर्ष में भी पैंट्री कार एवं बड़े स्टेशनों पर अवस्थित वैटरिंग इकाईयों वे लाइसेंस खुली नविदा वे माध्यम से देने वे कार्य को आगे बढ़ाया जाएगा।

36.       नियमित भोजन वे अलावा खान-पान की आधुनिक वैटरिंग सुविधाएं स्टेशनों एवं गाडियों पर उपलब्ध कराई जाएंगी। प्रमुख स्टेशनों पर फूड प्लाजा, फूड कोर्ट, शीतल पेयजल तथा ठंडे एवं गर्म पेय पदार्थों की व्यवस्था आटोमेटिक वेंडिंग मशीन लगाकर की जाएगी। इससे वैटरिंग सुविधाओं में सुधार होने वे साथ-साथ रेलवे को हो रहे घाटे में भी कमी होगी।

37.       यात्री गाडियों की पार्सल क्षमता का २५ प्रतिशत से भी कम उपयोग होने वे कारण पार्सल व्यवसाय में घाटा हो रहा है। हमने चालू वर्ष में क्षमता का उपयोग बढ़ाकर पार्सल आय में ३० प्रतिशत की वृद्ध दर्ज कर इस घाटे को कम किया है। पार्सल वैन की लीजिंग को बढ़ावा देने वे उद्देश्य से हमने लीजिंग नीत को और उदार बनाया है। पार्सल क्षमता वे उपयोग को बढ़ाने वे लिए खुली नविदा वे लिए न्यूनतम रिजर्व प्राइस पहली बार पार्सल दरों पर, दूसरी बार दरों वे ५० प्रतिशत और अंतिम बार २५ प्रतिशत वे बराबर निर्धारित किया जाएगा। अब लीज़ होल्डर ऐसे सभी स्टेशनों पर पार्सल की लोडिंग-अनलोडिंग कर सवेंगे जहां पर गाड़ी ५ मिनट से अधिक ठहरती है एवं गाड़ी  में लोड किये जाने वाले सामान का मैनीपेस्ट स्वयं तैयार कर सवेंगे। पार्सल गाडियों में चोरी की घटनाओं को रोकने वे लिए लोकप्रिय गाडियों वे ब्रेक वैन को स्टील की दीवार से लैस किया जायेगा। सहायक गार्ड डिब्बे की लीज़ कोरियर वंपनी वे अलावा ब्रेक वैन एवं पार्सल वैन वे लीज़ होल्डर्स को भी दी जा सवेगी। ब्रेक वैन में लगेज बुक करने की १५० किलोग्राम की अधिकतम सीमा को समाप्त कर दिया गया है।

38.       सामान्यत: साधारण यात्री गाडियों में आगे एवं पीछे  चार-चार टन वे दो ब्रेक वैन लगते हैं। कई गाडियों में माँग नहीं होने वे कारण ब्रेक वैन खाली चलती है। ऐसे ब्रेक वैन वे लगेज वाले हिस्से को द्वितीय श्रेणी वे डिब्बे में बदल दिया जाएगा।  इससे अगले २ वर्षों में लगभग ३०० साधारण श्रेणी सवारी डिब्बों की बचत होगी और पार्सल घाटे में कमी होगी।

 

मुस्कान वे साथ यात्री सेवा का वर्ष २००६

 

39.       महोदय, वर्ष २००६ को हमने मुस्कान वे साथ यात्री सेवा वर्ष वे रूप में मनाने का निर्णय लिया है।

 

मन में भाव सेवा का, होठों पर मुस्कान,

बेहतर सेवा वाजिब दाम, रेल की होगी यही पहचान.

इसलिए बढी है यू.पी.ए. की शान

और जा रही है इनकी जान ।

 

टिकट काउंटर की लंबी लाइन को छोटा करने की नीत

 

40.       प्रतदिन दस हजार से अधिक आई-टिकट एवं ई-टिकट इंटरनेट वे माध्यम से निर्गत किये जा रहे हैं। आज से ई-टिकट की सुविधा सभी मेल एवं एक्सप्रेस गाडियों में उपलब्ध हो गई है। ई-टिकट पर लिये जाने वाले शुल्क में उच्च श्रेणी वे लिए प्रत टिकट २० रुपये एवं स्लीपर क्लास वे लिए प्रत टिकट १५ रुपए की कमी की गई है। अब यात्री आई-टिकट एवं ई-टिकट रेल ट्रैवल सर्िवस एजेंट वे माध्यम से भी खरीद सकते हैं।  इस सुविधा वे विस्तार से पीआरएस काउंटरों पर लगने वाली लंबी कतारों को छोटा करने में मदद मिलेगी।

 

41.       +É£ÉÉÒ 1290 स्थानों पर पीआरएस और ३८० यूटीएस कार्य कर रहे हैं। चालू वर्ष वे अंत तक कुल १३१० पीआरएस एवं ४२५ यूटीएस वेद्र कार्यरत हो जाएंगे। आगामी वर्ष में सभी ए, बी, सी तथा डी कोट वे स्टेशनों और ई-कोट वे कुछ प्रमुख स्टेशनों पर ८०० नए यूटीएस खोलने का प्रस्ताव है। पश्चिम और मध्य रेल वे मुंबई महानगर वे उपनगरीय खंडों में दौ सौ आटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीनें स्थापित करने की पायलट योजना शुरू की जाएगी। इन मशीनों को यूटीएस प्रणाली से जोडा जाएगा और इनसे स्मार्ट कार्ड वे माध्यम से स्वत: टिकट निर्गत हो सवेंगे।

 

42.       अनारक्षित टिकट सुलभता से उपलब्ध कराने वे लिए हमने जनसाधारण टिकट बुविंग योजना बनाई है। इस योजना वे तहत बेरोजगार युवकों को प्री-पेड यूटीएस काउंटर उपलब्ध कराये जाएंगे। इसवे अतरित्त ग्रामीण टिकट बुविंग सेवा वे तहत  छोटे रोड साइड स्टेशनों पर बेरोजगार ग्रामीण युवकों को टिकट बेचने की एजेंसी दी जाएगी। ये दोनों योजनाएं पायलट बेसिस पर चुनिंदा स्टेशनों पर लागू की जाएंगी।

 

यात्री सुविधाओं को बेहतर बनाना

 

43.       यात्री सुविधाओं BÉEÉä आधुनिक बनाने वे लिए हमने ए और बी श्रेणी वे सभी स्टेशनों को मॉडल स्टेशन बनाने का निर्णय लिया है। स्टेशन भवन को सुन्दर, सुविधाजनक एवं आधुनिक बनाने वे उद्देश्य से हर डिवीजन में आर्िवटेक्ट की मदद ली जाएगी। मैं सदन को आश्वस्त करना चाहूँगा क यात्री सुविधा वे कार्यों वे लिए धनराश की कमी नहीं होने दी जाएगी एवं अगले दो वर्षों में सभी प्रमुख स्टेशनों वे गेट-अप एवं उपलब्ध सुविधाओं में जनता फर्व महसूस करेगी।

 

44.       भारतीय रेल से प्रत दिन एक करोड साठ लाख यात्री यात्रा करते हैं। हमारे स्टेशनों पर विज्ञापन, वैटरिंग, पाविर्ंंग, बैंविंग इत्याद से गैर परंपरागत रुाोतों से आमदनी बढ़ाने  वे साथ-साथ स्टेशनों को अल्ट्रा माडर्न बनाने की असीम संभावनाएं मौजूद हैं। इनका पूरा दोहन करने वे उद्देश्य से हम प्रमुख स्टेशनों पर एटीएम, साइबर वैपे जैसी वभिन्न आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराने वे काम को और तेजी से लागू करेंगे।

 

45.       हमने नई व्यावसायिक विज्ञापन नीत तैयार की है जिसवे अंतर्गत खुली नविदा से पूरे डिवीजन वे लिए लीज़ एक ही एजेंसी को दी जाएगी। प्रारंभ में इसे पायलट बेसिस पर कुछ ही डिवीजनों में लागू किया जाएगा। रिटायरिंग रूम, वेटिंग हाल, स्टेशन भवन, शौचालय इत्याद को सार्वजनिक-निजी भागीदारी योजना वे अंतर्गत अपग्रेड करने की पायलट योजना कुछ स्टेशनों पर क्रियान्वित की जा रही है। इस काम को और आगे बढ़ाया जाएगा।

 

यात्री गाडियों में आधुनिक सुविधाएं

 

46.       नई तकनीक से बने एलएचबी डिजाइन वे यात्री डिब्बे अभी तक वेवल लखनऊ-नई दिल्ली शताब्दी एक्सप्रेस तथा मुंबई-नई दिल्ली राजधानी एवं अगस्त क्रांत एक्सप्रेस में ही उपलब्ध थे। आगामी वर्ष में पटना एवं सियालदह राजधानी सहित कुछ अन्य राजधानी तथा शताब्दी ट्रेनों में इन आधुनिक डिब्बों को चलाया जाएगा।

 

47.       आगामी वर्ष में चार लोकप्रिय गाडियों वे डिब्बों में विश्वस्तर की सुविधा एवं अन्तर्सज्जा उपलब्ध कराई जाएगी। ये चार गाडियाँ हैं- हजरत निजामुद्दीन-ग्वालियर ताज एक्सप्रेस, नई दिल्ली-पटना सम्पूर्ण क्रांत एक्सप्रेस, चेन्नै-बेंगलोर वृंदावन एक्सप्रेस एवं नई दिल्ली-बरौनी वैेशाली एक्सप्रेस। आधुनिक तकनीक एवं साज-सज्जा वे इन डिब्बों में यात्रियों को सुखद अनुभूत होगी।

SHRI KINJARAPU YERRANNAIDU (SRIKAKULAM) : What about Hyderabad ? … (Interruptions)

 

श्री लालू प्रसाद: अभी कर रहे हैं ।

MR. DEPUTY SPEAKER : Silence please.

…(Interruptions)

 

श्री लालू प्रसाद: 48.        सवारी डिब्बों में पुनर्िनर्माण वे दौरान आरामदायक सीटें, सार्वजनिक सूचना प्रणाली, बेहतर लाइटिंग इत्याद की सुविधा दी जाएगी। डिब्बों वे फर्श, अंदर की दीवारों और छतों में बेहतर सामग्रियों का उपयोग कर डिब्बों वे भीतरी हिस्से को अधिक सुंदर बनाया जाएगा।

 

49.       मेल एवं एक्सप्रेस गाडियों में सभी प्रकार की यात्री सुविधाएं उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी वैटरिंग निगम को सौंपी गई है। निगम द्वारा वैटरिंग, बेडरोल, ट्रेन एवं टायलट की साफ-सफाई सहित सभी प्रकार की सेवाएं प्रदान करने वे लिए खुली नविदा द्वारा लाइसेंस दिये जाएंगे। उपयर्ुत्त सेवाएं ऐसी मेल एवं एक्सप्रेस गाडियों में भी उपलब्ध कराई जाएंगी जिनमें पैंट्री कार नहीं चलती है। यात्रियों से प्राप्त फीडबैक फॉर्म की कम्प्यूटरीकृत व्यवस्था द्वारा मॉनिटरिंग की जाएगी एवं यात्रियों वे सुझावों वे अनुरूप सेवाओं में सुधार लाने वे हर संभव प्रयास किये जाएंगे। ये सभी कार्य पायलट बेसिस पर कुछ गाडियों में शुरू  किये जाएंगे और सफल होने पर इन सेवाओं का विस्तार अन्य गाडियों में भी किया जाएगा।

रेल संरक्षा

 

50.       महोदय, मुझे सदन को यह जानकारी देते हुए हर्ष हो रहा है क गतायु ट्रैक, पुल एवं ए, बी एवं सी रूट पर अवस्थित सभी स्टेशनों वे ट्रैक सरकटिंग का कार्य मार्च २००७ तक पूरा कर लिया जाएगा। रेल संरक्षा वे ये कार्य पूरे हो जाने वे बाद स्वर्िणम चतुभर्ुज एवं उसवे विकर्ण मार्गों पर हल्की रेल को भारी रेल से बदल दिया जाएगा और सभी ए एवं सी रूट पर मल्टी ऑसपेक्ट कलर लाइट का कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा। विशेष रेल संरक्षा नध वे बचे हुए कार्यों को मार्च २००८ तक पूरा कर लिया जाएगा। महोदय, इससे भी अधिक खुशी की बात यह है क वे परिसंपत्तियाँ जो वर्ष २००१ वे बाद ओवरएज हो रही हैं उनका रिनीवल कार्य संबंधित वर्ष में ही स्वीकृत कर निष्पादित किया जा रहा है और इस प्रकार अब वर्ष २००४ तक वे बकाया रिनीवल कार्यों को स्वीकृत दी जा चुकी है। रेल संरक्षा वे उत्त कार्य पूरा होने से रेल दुर्घटनाओं में उल्लेखनीय कमी आई है और वर्ष २००१ की तुलना में परिणामी दुर्घटनाओं की संख्या ४७३ से गिरकर २३४ रह गई है। महोदय, हम डीआरएफ में पर्याप्त धनराश की व्यवस्था कर रहे हैं और मुझे विश्वास है क अब रेलवे को अपने रेल संरक्षा कार्यों वे लिए धन की कमी नहीं होगी।

 

रेल सुरक्षा

 

51.       ®äãÉसुरक्षा बल प्रतदिन लगभग एक हजार यात्री गाडियों में एस्कॉर्ट पार्िटयां तैनात कर रहा है । आरपीएफ द्वारा करीब छ: सौ स्टेशनों पर एक्सेस वंट्रोल एवं सुरक्षा प्रदान की जा रही है। महिला यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करने वे उद्देश्य से रेलवे द्वारा महिला डिब्बों में विशेष दल तथा उपनगरीय रेल क्षेत्र में भी कई स्थानों पर महिलाओं की सुरक्षा वे लिए विशेष प्रबंध किये जा रहे हैं। यात्रियों की सुरक्षा वे लिए आरपीएफ की अहम भूमिका वे आलोक में इसवे आधुनिकीकरण पर विशेष बल दिया जा रहा है। उत्कृष्ट कार्य एवं वीरता वे लिए सात आरपीएफ कर्िमयों को इस वर्ष गणतंत्र दिवस वे मौवे पर महामहिम राष्ट्रपत द्वारा वीरता पदक से सम्मानित किया गया है।

 

कर्मचारी कल्याण

           

52.       महोदय, १४ लाख रेलकर्िमयोंने दिन-रात परिश्रम कर रेलवे की वित्तीय स्थित का ऐतिहासिक कायाकल्प किया है। मैंने अपने नव वर्ष वे संदेश में सभी रेलकर्िमयोंको आश्वस्त किया था क चालू वर्ष में उनकी अपेक्षाओं को यथासंभव पूरा किया जाएगा।

 

कामगारों की लगन से, है तरक्की सबकी

हौसला इनका बढ़ाओ, क ये कुछ और बढ़े.

 

53.       भारतीय रेल वे कायाकल्प में रेलकर्िमयोंवेमहत्वपूर्ण योगदान को ध्यान में रखते हुए मैं आगामी वर्ष में कर्मचारी कल्याण नध में दिये जाने वाले अंशदान को लगभग ९ गुना बढ़ाकर २६ रुपए प्रत कर्मचारी से २२६ रूपए प्रत कर्मचारी करने का प्रस्ताव करता हूँ । कर्मचारियों वे आवास एवं स्टाफ कालोनियों में सुविधाओं वे विस्तार वे लिए धनराश में काफी वृद्ध करने का प्रस्ताव है।

 

54.       गैर राजपत्रित कर्मचारियोंकी रेलवे कालोनियों में सामुदायिक वेंद्र इत्याद की व्यवस्था नहीं होने से शादी-ब्याह वे अवसर पर उन्हें काफी कठिनाइयों का सामना करना पडता है। कर्मचारियों की सुविधा वे लिए हमने एक सौ सामुदायिक वेंद्र बनाने का निर्णय लिया है।

 

55.       पूर्व मध्य रेलवे वे मुख्यालय हाजीपुर सहित सभी नए जोन एवं डिवीजन वे मुख्यालयों एवं अन्य क्षेत्रों में ऑफिसर्स एंड स्टाफ आवास, सामुदायिक वेद्र, स्टाफ इंस्टीटयूट एवं ऑफिसर्स क्लब वे निर्माण कार्य में तेजी लाने वे लिए पर्याप्त धनराश उपलब्ध कराई जाएगी। इन निर्माण कार्यों को जमीन का अधिग्रहण कर समयबद्ध तरीवे से पूरा किया जाएगा।

 

56.       रनिंग स्टाफ को ऐसे रनिंग रूम्स में ठहरना पडता है जो क प्राय: मुख्यालय से  दूर होते हैं। घर से कोसों दूर उन्हें रात-बेरात अपने खाने की व्यवस्था करने में परेशानियों का सामना करना पडता है। अत: सभी संबंधित रेलवे पेडरेशनों से वार्ता कर आम सहमत बनाते हुए रनिंग स्टाफ को कार्य अवध में मामूली दाम पर भोजन उपलब्ध कराया जाएगा।

एक माननीय सदस्य: रेल में मुर्गी भी सप्लाई कीजिए ।

श्री लालू प्रसाद: मुर्गी भी देंगे, पहले सब विभाग खा ले, फिर हम देंगे …(व्यवधान)

 

57.       गैंगमैन एवं कीमैन द्वारा कठिन परिस्थितियों में ट्रैक की देख-रेख की जाती है। मैंने स्वयं इन्हें भीषण गमर्ी एवं कडावे की ठंड जैसी प्रतिकूल परिस्थितियों में कार्य करते देखा है। अत: ऐसे करीब एक लाख कर्मचारियों को उन्नत किस्म वे जूते-मोजे, दस्ताने तथा गमर्ी एवं सदर्ी वे यूनीफार्म  एवं आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है।

 

रेलवे चकित्सा सुविधाओं में सुधार

 

58.       पूर्व मध्य रेलवे वे पटना शहर में कार्िडयोलॉजी और नेफ्रोलॉजी वे एक नए सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल की स्थापना करने का निर्णय लिया गया है। इसवे अतरित्त आगरा, रायपुर और नांदेड में नए डिवीजनल हॉस्पिटल एवं रेल कोच पैक्टरी पेराम्बूर में हॉस्पिटल बिल्डिंग निर्माण वे पहले चरण वे कार्य को स्वीकृत किया गया है। सेंट्रल हॉस्पिटल एवं सुपर स्पेशियल्टी रेफरल हॉस्पिटलों में गेस्ट रूम निर्माण करने का निर्णय लिया गया है। रेलवे में विकलांग कर्मचारियों वे लिए कृत्रिम अंग इत्याद उपलब्ध कराने वे लिए पर्याप्त राश की व्यवस्था करने का प्रस्ताव है।

मानव संसाधन विकास

 

59.       वर्ष १९९० की तुलना में रेलकर्िमयों की संख्या करीब तीन लाख कम हुई है जबक इस अवध में हमारे थ्रूपुट में काफी वृद्ध हुई है। फलस्वरूप इस अवध में कर्मचारियों की उत्पादकता लगभग दोगुना हो गई है। कर्मचारियों की उत्पादकता में सुधार वे कम को जारी रखने वे लिए हमें रेलवे की मानव संसाधन आवश्यकताओं को इस प्रकार युत्तिकृत करना होगा जिससे संरक्षा एवं ऑपरेशन से जुड़े पदों पर कर्िमयों की कमी न हो और अनावश्यक पदों पर कमर्ी खाली न बैठे रहें। साथ ही हमें अपने रेलकर्िमयों को एक नहीं अनेक प्रकार की कारीगरी एवं कुशलता से लैस करना होगा। चूंक अब हमारा थ्रूपुट तेजी से बढ़ रहा है इसलिए हम अगले सात-आठ वर्षों में प्रत कर्मचारी उत्पादकता को पुन: दोगुना करने में सफल हो सवेंगे।  

 

अनुसूचित जात, जनजात एवं पिछड़ा जातियों की रत्तियों को भरने वे लिए विशेष भतर्ी अभियान

 

60.       अनुसूचित जात एवं जनजात की रत्तियों को भरने वे लिए एक विशेष भतर्ी अभियान चालू वर्ष में चलाया जा रहा है। अभी तक ६ हजार से अधिक रत्तियाँ भरी जा चुकी हैं। सरकार वे नये निर्णय वे अनुरूप आगामी वर्ष में अन्य पिछड़ा जातियों की रत्तियों वे बैकलॉग को भरने वे लिए भी एक विशेष अभियान चलाया जाएगा।

 

अनुसूचित जात, जनजात एवं पिछड़ा जातियों वे उम्मीदवारों को अधिकतम आयु सीमा में दी जा रही छूट का अवध विस्तार

 

61.       सामाजिक एवं आर्िथक परिस्थितियों वे कारण ग्रामीण क्षेत्रों वे अनुसूचित जात, जनजात एवं पिछड़ा जातियों वे उम्मीदवार निर्धारित आयु सीमा में सरकारी नौकरियों वे लिए आवेदन नहीं दे पाते हैं। इसलिए हमने ३ फरवरी, २००६ को समाप्त हो रही अधिकतम आयु सीमा में दी जा रही छूट की अवध का एक साल वे लिए विस्तार कर दिया है।

 

रेल भतर्ी बोर्ड 

 

62.       रेलवे में भतर्ी की प्रकिया को सुगम बनाने वे उद्देश्य से आवेदन फॉर्मों को सरल बनाया गया है।  भतर्ी बोर्ड की वेबसाइट से उम्मीदवार आवेदनपत्र डाउनलोड कर सकते हैं अथवा रोजगार समाचार से फोटोकॉपीकरसकते हैं। रेल भतर्ी बोर्ड, बैंगलोर और चेन्नै द्वारा कुछ कोटियों की भतर्ी वे लिए ऑन-लाइन परीक्षाएं सफलतापूर्वक आयोजित की गई हैं। इसका अन्य रेल भतर्ी बोर्डों तथा अन्य कोटियों वे पदों वे लिए विस्तार किए जाने की योजना है।

 

63.       रेलवे में की जाने वाली भतर्ी वे एक आम उम्मीदवार को राजपत्रित पदाधिकारी से सर्िटफिवेट सत्यापित कराने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पडता है अत: हमने निर्णय लिया है क रेल भतर्ी बोर्ड परीक्षाओं में जात प्रमाणपत्र को छोडकर उम्मीदवारों वे लिए आवेदन वे साथ अन्य प्रमाणपत्रों की सत्यापित प्रतियां भेजना आवश्यक नहीं होगा।

  ÉÊ®ªÉɪÉiÉå

 

64.       पिछले बजट में मैंने किसानों एवं दूध उत्पादकों को देश वे राष्ट्रीय स्तर वे संस्थानों में कृष एवं डेयरी पालन से संबंधित प्रशिक्षण अथवा बेहतर शिक्षा हेतु की जाने वाली यात्रा वे लिए द्वितीय श्रेणी वे यात्री किराए में ५० प्रतिशत की रियायत दी थी। देश भर वे किसानों से प्राप्त हुए अनुरोध को मानते हुए प्रस्ताव है क यह रियायत अब स्लीपर क्लास में भी उपलब्ध कराई जाए।

 

65.       वे लोग जिनका हाथ, पैर आद अंग दुर्घटना अथवा किन्हीं अन्य कारणों से कट गया है उनको ‘जयपुर फुट’ जैसे राष्ट्रीय स्तर वे प्रतिठानों में कृत्रिम अंग लगाने वे लिए की जाने वाली यात्रा में एक सहचर सहित द्वितीय श्रेणी एवं स्लीपर क्लास वे यात्री किराए में ५० प्रतिशत की छूट देने का प्रस्ताव है।

 

सार्वजनिक क्षेत्र वे उपकमों का निष्पादन

 

66.       सार्वजनिक क्षेत्र वे उपकमों का निष्पादन वर्ष २००४-२००५ वे दौरान भी संतोषजनक रहा है। भारतीय रेल वित्त निगम लमिटेड ने २००४-२००५ वे दौरान ४०५ करोड रूपये का कर पश्चात् शुद्ध लाभ अर्िजत करते हुए १ हजार ९५९ करोड रूपये का कारोबार किया है और ११५ करोड रुपये वे लाभांश का भुगतान किया है। भारतीय वंटेनर निगम लमिटेड ने ४२९ करोड रूपये वे शुद्ध लाभ वे साथ २ हजार ५२ करोड रूपये का टर्नओवर किया है और ९४ करोड रूपये वे लाभांश का भुगतान किया है। इरकॉन इंटरनेशनल लमिटेड ने ६२ करोड रूपये वे शुद्ध लाभ वे साथ १ हजार १४ करोड रूपये का कारोबार किया है तथा २० करोड रूपये वे लाभांश का भुगतान किया है। राइट्स लमिटेड ने ४१ करोड रुपये वे शुद्ध लाभ वे साथ २४० करोड रूपये का कारोबार किया है और १२ करोड रूपये वे लाभांश का भुगतान किया है। भारतीय रेल वैटरिंग एवं टूरिज्म कापर्ोरेशन ने गत वर्ष वे दौरान अर्िजत ७० करोड रूपए की तुलना में १२८ करोड़ रूपए की कुल आय अर्िजत की और ५ करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हासिल किया। रेलटेल कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लमिटेड ने गत वर्ष की २६ करोड़ रूपए की आमदनी की तुलना में ६५ करोड़ रूपए की आमदनी अर्िजत की है। रेल विकास निगम लमिटेड ने वर्ष २००४-२००५ वे दौरान चालू कार्यों पर पूंजी लेखे में ३९३ करोड़ रूपए खर्च किए। कोंकण रेल निगम लमिटेड का कुल राजस्व पिछले साल वे २४५ करोड़ रूपये से १८ प्रतिशत बढकर २८८ करोड़ रूपये हो गया है।

 

खेलकूद में रेलवे की उत्कृष्ट उपलब्धियां

 

67.       रेलवे खेलकूद संवर्द्धन बोर्ड ने चालू वर्ष में दिल्ली में विश्व रेलवे बैडमिंटन चैम्पियनशिप आयोजित की थी। इस प्रतियोगिता में भारतीय रेलवे चैम्पियन वे रूप में उभरी है। वेप टाउन, दक्षिण अफीका में आयोजित राष्ट्रमंडल कुश्ती चैम्पियनशिप २००५ में भारतीय रेल वे पहलवानों ने ६ स्वर्ण, ३ रजत और ३ कांस्य पदक जीते। इसवे अतरित्त भारतीय रेल वे खिलाडियों ने इस साल एथलेटिक्स, बास्वेटबाल, गोताखोरी, महिला हैंडबाल, महिला कबड्डी और पावर लिफ्टिंग में 9 राष्ट्रीय पदक जीते।

 

68.       यूनेस्को द्वारा नीलगर माउंटेन रेलवे को विश्व धरोहर स्थल का दर्जा दिया गया है। दार्िजलिंग हिमालयन रेलवे वे साथ अब इसको भी भारत की माउंटेन रेलवे का दर्जा मिल चुका है।

 

69.       चालू वर्ष का बजट प्रस्तुत करते हुए मैंने बिम्सटेक सदस्य देशों वे रेल कर्मचारियों को नि:शुल्क प्रशिक्षण देने की घोषणा की थी। इस प्रशिक्षण कार्यकम की व्यापक रूप से सराहना हुई है एवं भारतीय रेल वे प्रत सद्भावना का माहौल बना है। हमने इस प्रशिक्षण कार्यकम का मीकांग-गंगा कोआपरेशन देशों वे रेलकर्िमयों वे प्रशिक्षण वे लिए विस्तार करने का निर्णय लिया है।

 

यात्री सेवाएं

 

70.       महोदय, फरवरी माह की १८ तारीख से भारत वे मुनाबाओ से पाकिस्तान वे खोखरापार  वे नजदीक जीरो पॉइंट रेलवे स्टेशन वे बीच थार एक्सप्रेस शुरू  की गई है। यह साप्ताहिक बडाृ लाइन एक्सप्रेस यात्री गाड़ी दोनों देशों वे लोगों वे बीच मेल-मिलाप को बढयावा देने में सहायक होगी।

 

71.       देश वे कोने-कोने से सभी धर्म एवं सम्प्रदाय वे लोग ख्वाज़ा ग़रीब नवाज़ हज़रत मुइनुद्दीन चिश्ती साहब की दरगाह पर जियारत वे लिए अजमेर आते हैं। ज़ायरीनों की सुविधा वे लिए रांची, किशनगंज एवं बैंगलोर (यशवंतपुर) से ग़रीब नवाज़ एक्सप्रेस चलाने का मेरा प्रस्ताव है।

 

72.       भारतीय रेल ने दिल्ली-आगरा खंड पर १५० किलोमीटर प्रत घंटा की गत से चलने वाली रेलगाडियों की शुरुआत की है। अब दिल्ली-आगरा खंड वे बीच यात्रा वेवल १ घंटा ५६ मिनट में पूरी की जा सकती है। शीघ्र ही दिल्ली-कानपुर-लखनऊ मार्ग पर भी १५० किलोमीटर प्रत घंटा की गत से चलने वाली एक यात्री गाड़ी शुरू  की जाएगी। अगले वर्ष में अजमेर, जयपुर, वाराणसी, छपरा इत्याद शहरों को जोडने वाली कुछ मेल एवं एक्सप्रेस गाडियों की अधिकतम स्पीड ११० किलोमीटर से बढ़ाकर १२० किलोमीटर प्रत घंटा तक की जाएगी।

नई गाडियाँ

 

73.       वर्ष २००६-२००७ वे दौरान मेरा निम्नलखित सेवाएं उपलब्ध कराने का प्रस्ताव है

वलसाड-उधना (सूरत)-छपरा-सोनपुर श्रमिक एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

अहमदाबाद-पटना अजीमाबाद एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

मुजफ्फरपुर-कोलकाता (चितपुर) तिरहुत एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

दरभंगा-कोलकाता (चितपुर) मथिलांचल एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन)

किशनगंज गरीब नवाज़ एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

यशवंतपुर गरीब नवाज़ एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

रांची गरीब नवाज़ एक्सप्रेस बरास्ता वाराणसी (साप्ताहिक)

सहरसा-पटना कोसी एक्सप्रेस (प्रतदिन)

सोनपुर-छपरा-जम्मू तवी मौरध्वज एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

दिल्ली-पटना गरीब रथ (वातानुकूलित) (साप्ताहिक)

दिल्ली-मुंबई गरीब रथ (वातानुकूलित) (साप्ताहिक)

दिल्ली-चेन्नै गरीब रथ (वातानुकूलित) (साप्ताहिक)

 गरीबों के लिए एयरकंडीशंड गाडियां हैं …(व्यवधान)

MR. DEPUTY SPEAKER : Silence please. You can make suggestions during the course of discussion, not now.

..(Interruptions)

SHRI E. PONNUSWAMY (CHIDAMBARAM) : What about Tamil Nadu ? …(Interrruptions)

श्री लालू प्रसाद: सहरसा-अमृतसर गरीब रथ (वातानुकूलित) बरास्ता बरौनी, हाजीपुर, सोनपुर, छपरा, गोरखपुर (सप्ताह में दो दिन)

बैंगलोर-दरभंगा एक्सप्रेस बरास्ता चेन्नै, पटना (साप्ताहिक)

दरभंगा और गौहाटी वे बीच लिंक एक्सप्रेस (५६०९/५६१० अवध आसाम एक्सप्रेस वे साथ)-प्रतदिन

दिल्ली (न्यू आजादपुर)-सहरसा पूरबिया एक्सप्रेस बरास्ता लखनऊ (साप्ताहिक)

वलसाड-उधना (सूरत)-कानपुर उद्योगकमर्ी एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

रायबरेली-प्रतापगढ़-लोकमान्य तिलक (टर्िमनस) लिंक एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन)

भुवनेश्वर-बारिपदा एक्सप्रेस (सप्ताह में तीन दिन)

दुर्ग-गोरखपुर एक्सप्रेस बरास्ता पैजाबाद (साप्ताहिक)

दिल्ली-रायबरेली (सप्ताह में तीन दिन)

चेन्नै -मंगलौर एक्सप्रेस (सप्ताह में तीन दिन)

चेन्नै-तिरूवनंतपुरम एक्सप्रेस (प्रतदिन)

चेन्नै -तिरुवनंतपुरम एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

चेन्नै-एग्मोर-नागरकोइल एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

चेन्नै-कोयम्बटूर एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

मदुरै-तरूपत-मनमाड एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

हावडा-पुरी एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन)

भुवनेश्वर-पांडिचेरी एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

विशाखापत्तनम-निजामाबाद एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन)

हावडा-मुंबई एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

टाटानगर-यशवंतपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

चेन्नै-बिलासपुर एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

नागपुर-रायपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस (प्रतदिन)

पुणे-लखनऊ एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

इंदौर-भोपाल इंटरसिटी एक्सप्रेस (प्रतदिन)

भुज-बरेली एक्सप्रेस (सप्ताह में तीन दिन)

जबलपुर-जम्मू तवी एक्सप्रेस (साप्ताहिक)

प्रो० विजय कुमार मल्होत्रा (दक्षिण दिल्ली) : पिछले दिनों जिन गाड़ियों की घोषणा की थी, उनका क्या हुआ ? …(व्यवधान)

श्री लालू प्रसाद: सब चालू हो गईं । …(व्यवधान)

MR. DEPUTY SPEAKER : Nothing will go on record except the speech of the hon. Minister.

…(Interruptions)*

श्री लालू प्रसाद: जयपुर-अमृतसर एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन)

३४५३/३४५४ गौड एक्सप्रेस वे साथ राधिकापुर-सियालदह लिंक एक्सप्रेस (प्रतदिन)

मथुरा-अलवर पैसेंजर (प्रतदिन)

मछलीपत्तनम-तरूपत फास्ट पैसेंजर (सप्ताह में तीन दिन)

गुडुर-तरूपत पैसेंजर (प्रतदिन)

हाजीपुर-सोनपुर-छपरा-सिवान-थावे पैसेंजर (प्रतदिन)

मैलानी-पलियाकलां पैसेंजर (मीटर गेज) (प्रतदिन)

जालंधर सिटी-नाकोदर डी.एम.यू (प्रतदिन)

 

*Not Recorded

आसनसोल-बोकारो मेमू

बाँकुरा-राँची पैसेंजर बरास्ता पुरुलिया

जोगबनी-कोलकाता एक्सप्रेस (सप्ताह में तीन दिन) (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

अजमेर-उदयपुर सिटी एक्सप्रेस (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

पूरना-नांदेड-पटना एक्सप्रेस (साप्ताहिक) (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

पूरना-आदिलाबाद पैसेंजर (साप्ताहिक) (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

नांदेड-आदिलाबाद पैसेंजर (प्रतदिन) (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

मदुरै-रामेश्वरम् पैसेंजर (प्रतदिन) (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

कुमारघाट-अगरतला (नई मीटर गेज लाईन वे प्रारंभ होने वे पश्चात) (प्रतदिन)

उपाध्यक्ष महोदय: प्रभुनाथ जी, रिकार्ड में कुछ नहीं जा रहा है ।

…(व्यवधान)

उपाध्यक्ष महोदय: रिकार्ड में कुछ भी नहीं जा रहा है ।

…(व्यवधान)

MR. DEPUTY SPEAKER : Please sit down.

…(Interruptions)

उपाध्यक्ष महोदय: लालू जी एक मिनट रूकिए ।

…(व्यवधान)

उपाध्यक्ष महोदय: मैंने उन्हें बैठने के लिए बोला तो आप खड़े हो गए । Please sit down.

…(Interruptions)

श्री लालू प्रसाद: गाडियों का विस्तार

 

74.       मुझे निम्नलखितसेवाओं वे चालन वे विस्तार की घोषणा करने में अत्यंत प्रसन्नता हो रही है

६०३९/६०४० चेन्नै-वाराण्सी गंगा कावेरी एक्सप्रेस (सप्ताह में चार दिन) छपरा तक (सप्ताह में दो दिन)

३२४५/३२४६ दानापुर-न्यू जलपाईगुड़ी वैपिटल एक्सप्रेस कामाख्या (गुवाहाटी) तक (सप्ताह में चार दिन)

७६०५/७६०६ मुंबई-नांदेड नंदीग्राम एक्सप्रेस नागपुर तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात्)

७२०३/७२०४ विजयवाडा-लोकमान्य तिलक (टर्िमनस) एक्सप्रेस काकीनाडा टाउन और भावनगर तक

४३९ तिरूपत-ओंगोल पैसेंजर चिराला तक

१३२१/१३२२ पुणे नांदेड मुदखेड पैसेंजर निजामाबाद तक

३५५/३५६ हैदराबाद-चित्तपुर पैसेंजर वाडी तक

६५१३/६५१४ बैंगलोर-बीजापुर एक्सप्रेस बागलकोट तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात्)

३८५/३८६ शोलापुर-बीजापुर पैसेंजर बागलकोट तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात्)

७२२७/७२२८ वास्को-विजयवाडा एक्सप्रेस (सप्ताह में चार दिन) हावडा तक

८५०७/८५०८ विशाखापत्तनम-निजामुद्दीन हीराकुड एक्सप्रेस अमृतसर तक

८३०५/८३०६ रायपुर-संबलपुर एक्सप्रेस भुवनेश्वर तक

८४६७/८४६८ पुरी-जयपुर एक्सप्रेस जोधपुर तक

८५६३/८५६४ बैंगलोर-विशाखापत्तनम प्रशांत एक्सप्रेस भुवनेश्वर तक

२११/२१२ पुरी-संबलपुर पैसेंजर राऊरवेला तक

८२३९/८२४० बिलासपुर-इतवारी एक्सप्रेस नागपुर तक

९१०५/९१०६ अहमदाबाद-दिल्ली मेल हरिद्वार तक

२०७/२०८ ओखा-सुरेद्रनगर पैसेंजर भावनगर तक

४८८७/४८८८ हरिद्वार/कालका-जोधपुर एक्सप्रेस बाडमेर तक

५६३१/५६३२ गुवाहाटी-जोधपुर एक्सप्रेस बाडमेर तक

१०९५/१०९६ पुणे-अहमदाबाद अहिंसा एक्सप्रेस (सप्ताह तीन दिन) जोधपुर तक (साप्ताहिक)

६३११/६३१२ तिरूवनंतपुरम-जोधपुर एक्सप्रेस बीकानेर तक

९७७७/९७७८ जयपुर-आगरा फोर्ट एक्सप्रेस ग्वालियर तक

१४६९/१४७० जबलपुर-कोटा एक्सप्रेस जयपुर तक

१२७१/१२७२ इटारसी-बीना विंध्याचल एक्सप्रेस हबीबगंज तक

१९३/१९४ जयपुर-कोटा पैसेंजर शामगढ़ तक

५२६७/५२६८ लोकमान्य तिलक (टर्िमनस्)-मुजफ्फर एक्सप्रेस रक्सौल तक

१डीएम/२डीएम दिल्ली-मेरठ सिटी पैसेंजर मुजफ्फरनगर तक

२९६७/२९६८ जयपुर-चेन्नै एक्सप्रेस कोयम्बटूर तक

८२३/८२४ तिरूचिरापल्ली-कुम्बाकोणम पैसेंजर माइलादुतुरै तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात्)

आप सुन नहीं रहे हैं, आप मिस कर रहे हैं । …(व्यवधान)

उपाध्यक्ष महोदय: प्लीज आप बैठिए ।

श्री लालू प्रसाद: सब गाड़ियों का प्रावधान है ।

उपाध्यक्ष महोदय: लालू जी आप एक मिनट बैठ जाइये ।

…(व्यवधान)

श्री लालू प्रसाद: ६२३१/६२३२ मैसूर-कुम्बाकोणम एक्सप्रेस माइलादुतुरै तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात्)

उपाध्यक्ष महोदय: रिकार्ड में कुछ नहीं जा रहा है । आप मेरी बात सुनिए, प्लीज आप बैठिए । मेरी रिक्वेस्ट यह है कि रेलवे बजट पेश हो रहा है, जो भी आपके इलाके की डिमांडंस हैं या किसी प्रोविंस की कोई खास डिमांड है, उसे डिस्कशन के समय पेश करें ।

…(व्यवधान)

MR. DEPUTY SPEAKER : This is not the proper time. Only the hon. Minister’s speech will go in the record and nothing else.

…(Interruptions)*

* Not Recorded.

८९५/८९६ तिरूचिरापल्ली-तंजाऊर पैसेंजर माइलादुतुरै तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

७५१/७५२ मदुरै-मानमदुरै पैसेंजर रामेश्वरम् तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

७५३/७५४ मदुरै-मानमदुरै पैसेंजर रामेश्वरम् तक (आमान परिवर्तन वे पश्चात)

४२०१/४२०२ मथुरा-लखनऊ  एक्सप्रेस (बरास्ता पैजाबाद-वाराणसी) पटना तक (सप्ताह में तीन दिन)

४८४५/४८४६ जोधपुर-अहमदाबाद एक्सप्रेस बांद्रा टर्िमनस तक

२५५५/२५५६ गोरखपुर-रोहतक गोरखधाम एक्सप्रेस भिवानी तक

आप लोग पूरी बात नहीं सुन रहे हैं, फिर मैं सारे अखबारों में छपवा दूंगा । …(व्यवधान) सारी स्टेट कवर्ड हैं । आप मिस कर रहे हैं ।

MR. DEPUTY SPEAKER : Please sit down. Silence please. This is not the proper way.

…(Interruptions)

 श्री लालू प्रसाद: पेरों में वृद्ध

  अभी रेलों में कितना नया विस्तार तथा कितने फेरे होंगे, मैं पूरे देश के बारे में पढ़ रहा हूं और वह कह रहे हैं कि आमान परिवर्तन पर बोलो । आमान परिवर्तन बाद मे है ।       

 

75.       माननीय संसद सदस्य यह जानकर प्रसन्न होंगे क कुछ लोकप्रिय गाडियों वे पेरों में वृद्ध की जाएगी। इस संबंध में ब्यौरा इस प्रकार है

 

१०३७/१०३८ पटना-पुणे एक्सप्रेस को सप्ताह में एक दिन से बढ़ाकर दो दिन …(व्यवधान) हमारी गाड़ी चलती है । …(व्यवधान) आप जरा धैर्य रखकर पूरी बात सुन लीजिए । यह कब होगा, मैं अभी बताता हूं । आप लोग घबराइये मत । …(व्यवधान)

MR. DEPUTY SPEAKER : Please sit down.

…(Interruptions)

श्री लालू प्रसाद: २६८३/२६८४ बैंगलोर-एर्णाकुलम एक्सप्रेस हम बैंगलोर-एर्णाकुलम एक्सप्रेस के बारे मे कह रह है, यह आलरेडी पटना से चलती है । …(व्यवधान) इसे दो दिन किया है । …(व्यवधान) वह गाड़ी पटना चल रही, यह पहले एक दिन चलती थी, अब उसे दो दिन कर दिया है । बिहार के लाखों बच्चें पूणे में पढ़ते है, इसलिए इसे अब दो दिन कर दिया है । …(व्यवधान) इसे पटना की तरफ से चलाकर बड़ा भारी काम किया है। …(व्यवधान)

MR. DEPUTY SPEAKER : Nothing will go on record except the speech of the hon. Minister.

…(Interruptions)*

 

श्री लालू प्रसाद: सप्ताह में एक दिन से बढ़ाकर दो दिन

२६६१/२६६२ चेन्नै एग्मोर-तेनकासी पोदिगे एक्सप्रेस को सप्ताह में दो दिन से बढ़ाकर तीन दिन (जो सेनगोटे तक आमान-परिवर्तन वे पश्चात् प्रतदिन चलेगी)

२७१५/२७१६ अमृतसर-नांदेड सचखंड एक्सप्रेस को सप्ताह में पांच दिन से बढ़ाकर प्रतदिन

३७७/३७८ बेलगाम-मिरज पैसेंजर को सप्ताह में पांच दिन से बढ़ाकर छ: दिन

 

* Not Recorded.

३७९/३८० बेलगाम-मिरज पैसेंजर को सप्ताह में चार दिन से बढ़ाकर छ: दिन

२८११/२८१२ हटिया-लोकमान्य तिलक (टर्िमनस) एक्सप्रेस को सप्ताह में एक दिन से बढ़ाकर दो दिन

५६२५/५६२६ बैंगलोर-गुवाहाटी एक्सप्रेस को सप्ताह में दो दिन से बढ़ाकर तीन दिन

२५०१/२५०२ नई दिल्ली-गुवाहाटी संपर्व कांत एक्सप्रेस को सप्ताह में दो दिन से बढ़ाकर तीन दिन

२३४५/२३४६ हावडा-गुवाहाटी सरायघाट एक्सप्रेस को सप्ताह में तीन से बढ़ाकर पांच दिन

२३२७/२३२८ हावडा-देहरादून उपासना एक्सप्रेस को एक दिन से बढ़ाकर दो दिन

४३१९/४३२० काठगोदाम-देहरादून एक्सप्रेस को 2 दिन से बढ़ाकर तीन दिन

 

76.       मुझे ऐसे प्रतिवेदन प्राप्त होते रहे हैं क हजरत निजामुद्दीन से यशवंतपुर (बैंगलोर) वे बीच प्रतदिन चलने वाली २६४९/२६५० कर्नाटक संपर्व क्रांत एक्सप्रेस कर्नाटक राज्य वे और अधिक क्षेत्रों को जोड़े। इन सुझावों का सम्मान करते हुए मैं २६४९/२६५० कर्नाटक संपर्व क्रांति के रूट को पुनर्िनर्धारित करते हुए सप्ताह में दो दिन इसे वाया इटारसी-मनमाड-पुणे-हुबली-अरसीवेरे-यशवंतपुर चलाने का प्रस्ताव करता हूँ।

 

77.       जनता की मांग पर ३२८९/३२९० राजेद्रनगर-जम्मू तवी अर्चना एक्सप्रेस जो पहले वाराणसी, लखनऊ वे रास्ते जाती थी, का मार्ग बदलकर रायबरेली, प्रतापगढय, लखनऊ होते हुए जम्मू तवी करने का प्रस्ताव करता हूँ।

फ्रेट कॉरिडोर का निर्माण

 

78.       महोदय, मैंने वर्ष २००५-२००६ वे रेल बजट पर हो रही बहस का जवाब देते हुए स्वर्िणम चतुभर्ुज एवं उसवे विकर्णों पर समर्िपत फ्रेट कॉरिडोर निर्माण करने वे महत्व से सदन को अवगत कराया था। माननीय प्रधानमंत्री जी ने भी लाल किले की प्राचीर से किये गये अपने भाषण में फ्रेट कॉरिडोर वे निर्माण की घोषणा की थी। मुझे सदन को यह जानकारी देते हुए खुशी हो रही है क २२ हजार करोड रूपए की अनुमानित लागत पर पश्चिमी और पूवर्ी मार्गों पर समर्िपत वंप्यूटराइज्डवंट्रोल युत्त मल्टीमोडल हाई एक्सल लोड फ्रेट कॉरिडोर की दोनों परियोजनाओं को इस वर्ष की कार्य योजना में शामिल किया गया है। पूवर्ी कॉरिडोर परियोजना वे प्रथम चरण में लुधियाना से अंबाला, सहारनपुर, खुर्जा और इलाहाबाद वे रास्ते सोननगर तक एक अलग फ्रेट कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा। आप पहले हमारी पूरी बात सुन लीजिए, हमें पूरा पढ़ने दीजिए । …(व्यवधान)

श्री बसुदेव आचार्य: हम फ्रेट कॉरीडोर कोलकाता से मांग रहे हैं, लेकिन आप कहीं अन्य जगह से दे रहे हैं । यह प्रपोजल किसने भेजा है, यह कोलकाता से ही होनी चाहिए । …(व्यवधान)

श्री लालू प्रसाद: क्या आप यह क्रेडिट हमें नहीं लेने देंगे । …(व्यवधान) आप हमें पहले पूरा पढ़ने दीजिए ।

MR. DEPUTY SPEAKER : Please sit down.

…(Interruptions)

MR. DEPUTY SPEAKER : This is not the proper time. Please take your seats.

…(Interruptions)

श्री लालू प्रसाद: हमे भी कुछ क्रेडिट लेने दीजिए। …(व्यवधान) जब हम पूरा पढ़ ले तब आप बोलिए । …(व्यवधान)

उपाध्यक्ष महोदय: आचार्य जी, इस पर जब डिस्कशन होगा, उस समय आप बोलिए , this is not the proper time.

…(व्यवधान)

श्री लालू प्रसाद: पहले हावड़ा तक थी, अब उसे हल्दिया तक ले जाना है । …(व्यवधान) कोयले और इस्पात यातायात की भारी रेलगाडियों की ढुलाई करने वे लिए सोननगर से दुर्गापुर बरास्ता गोमोह, सोननगर से टाटानगर बरास्ता गढ़वा रोड और बरकाकाना से बोकारो सिटी बरास्ता चंद्रपुर प्राथमिक फीडर मार्गों को अपग्रेड किया जाएगा। परिवहन की आवश्यकताओं वे अनुरूप कोलकाता वे निकट अवस्थित बंदरगाहों की तरफ जाने वाले मार्गों को भी अपग्रेड किया जाएगा।

MR. DEPUTY SPEAKER : Silence please.

…(Interruptions)

MR. DEPUTY SPEAKER : Nothing will go on record except the speech of the hon. Minister

…(Interruptions)*

श्री लालू प्रसाद: आप पहले हमारी पूरी बात सुन लीजिए । …(व्यवधान)

उपाध्यक्ष महोदय: लालू जी, आप अपनी स्पीच कन्टीन्यू रखिए ।

श्री लालू प्रसाद: इन प्राथमिक फीडर मार्गों को यथासमय समर्िपत फ्रेट कॉरिडोरों में बदला जाएगा। पश्चिमी कॉरिडोर जवाहर लाल नेहरू पोर्ट से आरंभ होगा और वडोदरा, अहदाबाद, पालनपुर, जयपुर एवं रेवाड़ी वे रास्ते तुगलकाबाद एवं दादरी तक जाएगा। दोनों कॉरिडोर दादरी और खुर्जा वे बीच एक संपर्व वे जरिए आपस में जोड़े जाएंगे। गुजरात वे बंदरगाहों को जोडने वाले पश्चिमी कॉरिडोर वे फीडर मार्गों को अपग्रेड किया जाएगा। माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा शीघ्र ही इस कॉरिडोर का शिलान्यास किया जायेगा।

 

* Not Recorded.

MR. DEPUTY SPEAKER : This is not the proper time. Please take your seats.

…(Interruptions)

MR. DEPUTY SPEAKER : Nothing will go on record except the speech of the hon. Minister.

…(Interruptions)*

श्री लालू प्रसाद: रेल व्हील पैक्टरी, छपरा की उत्पादन क्षमता का विस्तार

 

79.       गत वर्ष बजट प्रस्तुत करते हुए मैंने छपरा में एक नई रेल व्हील पैक्टरी वे निर्माण की घोषणा की थी। माल लदान में अभूतपूर्व वृद्ध होने वे कारण वैगनों की हमारी मांग काफी बढ़ गई है । अत: हमने रेल व्हील पैक्टरी, छपरा की उत्पादन क्षमता पचास हजार से बढ़ाकर एक लाख करने का निर्णय लिया है।

MR. DEPUTY SPEAKER : This is not the proper time. I will not allow you.

…(Interruptions)

 उपाध्यक्ष महोदय: इस पर जिस समय डिस्कशन होगा, उस समय आप बोलिए ।

 

श्री लालू प्रसाद: 80.         इंटीग्रल कोच पैक्टरी, चेन्नै की उत्पादन क्षमता को १२५० डिब्बों से बढ़ाकर प्रतिवर्ष १५०० करने का प्रस्ताव है। रेल कोच पैक्टरी कपूरथला की उत्पादन क्षमता बढ़ाने का कार्य भी चल रहा है। ये कार्य पूरे होने पर हमारी वार्िषक कोच उत्पादन क्षमता २६ प्रतिशत बढ़कर २९०० कोच हो जाएगी। भावनगर वर्वशॉप को मीटर गेज से ब्रॉड गेज में बदलकर इसे प्रतिमाह ५० ब्रॉड गेज सवारी डिब्बों की ओवरहॉलिंगवेउपयुत्त बनाया जाएगा। इस वर्ष पेट स्टॉक वे बेहतर रखरखाव हेतु ३४ स्थानों पर सुविधाओं का उन्नयन किया जाएगा। इसी प्रकार १९ स्थानों पर सवारी डिब्बों की रखरखाव संबंधी सुविधाओं को अपग्रेड किया जाएगा।

SHRI KINJARAPU YERRANNAIDU : Sir, nothing is included for Andhra Pradesh – no new trains, no extensions, no corridor etc… (Interruptions)

MR. DEPUTY SPEAKER : This is not the proper time. I will not allow you.

…(Interruptions)

 

 

* Not Recorded

श्री लालू प्रसाद: समस्तीपुर कारखाने का विस्तार

 

81.       वर्तमान में समस्तीपुर कारखाने में प्रतिमाह २५ नये वैगन का निर्माण होता है। इस वर्वशाप की क्षमता का विस्तार कर इसे नये वैगनों वे निर्माण वे साथ-साथ प्रत माह ५० वैगन वे पुनर्िनर्माण करने वे लिए भी उपयुत्त बनाया जाएगा।

सोनपुर में डीएमयू शेड, एवं वैगन वर्वशॉप का निर्माण

 

82.       सोनपुर एवं उसवे आसपास वे क्षेत्रों में डीजल मल्टीपल यूनिट सेवा का विस्तार किया जा रहा है। इसमें आवश्यकता होगी क डीएमयू डिब्बों को सोनपुर में वेद्रित किया जाए। इस हेतु सोनपुर में एक डीजल मल्टीपल यूनिट शेड वे निर्माण का प्रस्ताव है। इससे डीएमयू डिब्बों वे उचित रख-रखाव का प्रबंध हो सवेगा। पूर्व मध्य रेल में इस समय कोई वैगन ओवरहॉलिंगवर्वशॉप नहीं है। बढयती हुई जरूरतों वे मद्देनजर सोनपुर में प्रतिमाह १८० वैगन ओवरहॉल करने की क्षमता वाली एक वर्वशॉप वे निर्माण का प्रस्ताव है।

13.16 hrs.     

(At this stage, Shri Shrichand Kriplani and some other

hon. Members came and stood near the Table.)

 

MR. DEPUTY SPEAKER : Please go to your seats.

…(Interruptions)

13.17 hrs.     

(At this stage, Shri Shrichand Kriplani and some other

 hon. Members went back to their seats.)

 

MR. DEPUTY SPEAKER : Nothing will go on record except the speech of the hon. Minister.

…(Interruptions)*

 

 

*Not Recorded

श्री लालू प्रसाद: रेल कोच पैक्ट्री, कपूरथला वे संबंध में प्रस्ताव

           

83.       रेलवे की उत्पादन इकाइयाँ गुणवत्ता में किसी से पीछे नहीं हैं। आवश्यकता इन्हें पूर्ण स्वायत्तता देने की है ताक वे देशी एवं विदेशी वंपनियों को टक्कर दे सवें। अगले कुछ वर्षों में देश वे अनेक शहरों में मेट्रो योजनाएं शुरू होने की संभावनाएं है। बदलते परिवेश की चुनौतियों का सामना करने वे लिए रेल कोच कारखाना, कपूरथला को भारतीय रेल वे १०० प्रतिशत स्वामित्व वे सार्वजनिक उपक्रम वे रूप में गठित किए जाने वे सुझाव पर कारखाने वे कर्मचारियोंतथा अन्य सभी स्टेक होल्डरों वे साथ विचार कर आम सहमत बनाते हुए निर्णय लिये जायेंगे।

निवेश रणनीत

 

84.       महोदय, रेलवे की नई निवेश रणनीत वे तहत सघन मार्गों पर रूट वार थ्रूपुट संवर्द्धन कार्यों को सवर्ोच्च प्राथमिकता दी जा रही है। कम लागत-अधिक लाभ वाले ट्रैफिक पैसलिटी एवं टर्िमनल इम्प्रूवमेंट कार्यों को पूरा करने से वैगन की उत्पादकता में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। सभी लंबित थ्रूपुट संवर्द्धन योजनाओं को अगले तीन वर्षों में पूरा किया जाएगा और इन कार्यों वे लिए धनराश की कमी नहीं होने दी जाएगी। दिल्ली-मुंबई मुख्य मार्ग वे वैकल्पिक रूट वाया रेवाडाृ-रींगस-फुलेरा वे आमान परिवर्तन का कार्य २००७-२००८ तक तथा दिल्ली-हावडा वे वैकल्पिक रूट वाया मुरादाबाद-लखनऊ -मुगलसराय वे दोहरीकरण का कार्य २००८-२००९ तक पूरा हो जाएगा। गोंडा-गोरखपुर-छपरा-बरौनी-कटिहार लाइन वे दोहरीकरण कार्य को भी प्राथमिकता वे आधार पर २००८-२००९ तक पूरा कर लिया जाएगा। इसी प्रकार पोर्ट संपर्व एवं आयरन-ओर सर्िवट वे थ्रूपुट संवर्द्धन कार्यों को भी अगले तीन वर्षों में समयबद्ध तरीवे से पूरा किया जाएगा।

 

85.       महोदय, २००२-२००३ वे बजट से परियोजनाओं में धनराश राज्यवार फामर्ूले वे अनुसार बांटी जाती रही है। इस तरह राश बांटने से थ्रूपुट संवर्धन वे लिए जरूरी दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण की परियोजनाओं को समयबद्ध तरीवे से पूरा करने में कठिनाई हो रही है। अत: प्रस्ताव है क ऐसी योजनाओं को फामर्ूले से बाहर रखा जाए।

13.23 hrs.     

(At this stage, Dr. Arun Kumar Sarma and some other

hon. Members came and stood near the Table.)

 

 

MR. DEPUTY SPEAKER : Please go to your seats.

…(Interruptions)

श्री लालू प्रसाद: वार्िषक योजना २००६-२००७

 

86.       मैं अब २००६-२००७ की वार्िषक योजना प्रस्तुत करना चाहूँगा। वर्ष २००६-२००७ वे लिए २३ हजार ४७५ करोड़ रूपए का योजना परिव्यय रखा गया है। महोदय, यह अब तक की सबसे बड़ी वार्िषक योजना है एवं राष्ट्रीय परियोजनाओं वे लिए उपलब्ध परिव्यय को छोडकर यह चालू वर्ष वे परिव्यय से ३२ प्रतिशत अधिक है। सभी रेलकर्िमयों वे लिए यह गर्व का विषय है क प्रस्तावित योजना परिव्यय का दो-तिहाई से भी अधिक हिस्सा आंतरिक और गैरबजटीय रुाोतों से मुहैया कराया जाएगा। सिर्प आंतरिक रुाोतों से ही ४६ प्रतिशत राश जुटाई जाएगी।

 

87.       योजना परिव्यय में लीज प्रभार वे वैपिटल भाग वे १ हजार ७२० करोड रूपये एवं विशेष रेल संरक्षा नध से संबंधित संरक्षा कार्यों वे लिए २ हजार २४० करोेड़ रूपये की परिव्यय वे प्रावधान भी शामिल हैं। वर्ष २००६-२००७ वे लिए सामान्य राजकोष से प्राप्त कुल नध  ७ हजार ५११ करोड़ रूपये है, जिसमें विशेष संरक्षा नध वे लिए १ हजार ३६५ करोड़ रूपये और वेद्रीय सड़क नध से प्राप्त ७११ करोड़ रूपये शामिल हैं। इस प्रकार वभिन्न योजना शीर्षों में वितरण वे लिए ५ हजार ४३५ करोड़ रूपये का शुद्ध बजटीय सहायता प्राप्त हुई है। पिछले वर्ष वे बजट अनुमान में यह राश ७ हजार २३१ करोड़ रूपये थी जिसमें विशेष रेल संरक्षा नध वे लिए लगभग २ हजार ७०० करोड़ रूपये और वेंद्रीय सड़क नध से प्राप्त ७११ करोड़ रूपये शामिल थे।

 

88.       बजटीय सहायता वे अतरित्त मैं योजना खर्च वे लिए आंतरिक तौर पर जुटाये गये संसाधन से १० हजार ७९४ करोड़ रूपये मुहैया कराने का प्रस्ताव करता हूँ जो पिछले वर्ष वे बजट की राश से ६ हजार ७६ करोड़ रूपये अधिक है। गैर बजटीय रुाोतों से कुल ५ हजार १७० करोड़ रूपये मुहैया कराये जाने का अनुमान है जिसमें से 4 हजार 170 करोड़ रूपये की राश रोलिंग स्टॉक खरीदने वे लिए बाजार से ऋण लेकर, 500 करोड़ रूपये वभिन्न रेल परियोजनाओं पर निवेश वे लिए रेल विकास निगम लमिटेड वे माध्यम से एवं बाकी बचे ५०० करोड़ रूपये की राश हाल ही में जारी की गई वैगन इन्वेस्टमेंट स्कीम से जुटाई जाएगी।

 

89.       वार्िषक योजना में रेलवे की उच्च विकास दर को बनाये रखने वे लिए थ्रूपुट संवर्द्धन, नेटवर्व वे विकास और विस्तार एवं संरक्षा पर विशेष जोर दिया गया है। इस वर्ष ५ प्रमुख परियोजना शीर्षों वे अंतर्गत कुल परिव्यय ४ हजार ३९६ करोड़ रूपये रखा गया है। जिसमें नई लाइनों पर १ हजार ५१० करोड़ रूपये, आमान परिवर्तन पर १ हजार ३०० करोड़ रूपये, दोहरीकरण वे लिए १ हजार ५२ करोड़ रूपये और विद्युतीकरण वे लिए २२६ करोड़ रूपये शामिल हैं। महानगर परिवहन परियोजनाओं वे लिए ३०८ करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। इसवे अलावा १ हजार ७५० करोड़ रूपये रेल विकास निगम लमिटेड वे माध्यम से कियान्वित की जाने वाली परियोजनाओं वे लिए व्यय किये जाएंगे। रेल संरक्षा से संबंधित योजना शीर्षों वे परिव्यय में रेल पथ नवीकरण वे लिए २ हजार ९२२ करोड़ रूपये, पुलों वे लिए ५९० करोड़ रूपयेे, सिगनल एवं दूरसंचार वे लिए १ हजार ५१८ करोड़ रूपये,  आरओबी-आरयूबी निर्माण वे लिए ४३६ करोड़ रूपये एवं मानव रहित समपारों को मानव युत्त करने वे लिए २७५ करोड़ रूपये शामिल हैं।

 

90.       जम्मू एवं कश्मीर तथा पूवर्ोत्तर क्षेत्र की राष्ट्रीय परियोजनाओं, यथा ऊ धमपुर-श्रीनगर-बारामूला, जिरीबाम-इम्फाल रोड (तुपुल) और कुमारघाट-अगरतला की नई लाइनें एवं लमडिंग-सिलचर-जिरीबाम आमान परिवर्तन योजना, वे लिए वित्त मंत्रालय से  २ हजार ९२ करोड़ रूपयेे की अतरित्त राश की माँग की गई है। वित्त मंत्रालय द्वारा इनवे लिए वर्ष वे दौरान कार्य की प्रगत वे आधार पर नध उपलब्ध कराई जाएगी।

13.26 hrs.

 

(At this stage, Dr. Arun Kumar Sarma and some other

hon. Members left the House.)

 

चालू परियोजनाएं

 

91.       महोदय, राष्ट्रीय परियोजनाओं का कार्य तेजी से चल रहा है। २००६-२००७ वे दौरान त्रिपुरा की राजधानी अगरतला को रेल नेटवर्व से जोडने वे लिए कुमारघाट-अगरतला नई लाइन का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। इसी प्रकार उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला नई लाइन परियोजना में उधमपुर से कटरा और काजीगुंड से बडगाम तक वे खंडों का कार्य २००६-२००७ वे दौरान पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उधमपुर-कटरा खंड वे पूरा हो जाने से माता वैष्णो देवी वे सुप्रसिद्ध तीर्थ स्थान वे लिए रेल संपर्व उपलब्ध हो जाएगा।

 

92.       असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर निर्माणाधीनबोगीबील ब्रिज, बिहार में गंगा नदी पर पटना वे निकट दीघा में एवं मुंगेर में रोड-कम-रेल ब्रिज एवं कोसी नदी पर निर्मली में रेल ब्रिज निर्माण को गत देने वे लिए आगामी वर्ष में ५०० करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। दीघा में बन रहे रोड-कम-रेल ब्रिज वे निर्माण वे संबंध में सडक परिवहन और राष्ट्रीय राजमार्ग विभाग से सहयोग लेने वे लिए वार्ता की जा रही है एवं निर्माण कार्य को समयबद्ध तरीवे से पूरा किया जाएगा।

 

93.       हरियाणा राज्य सरकार ने रेवाड़ी-झज्जर-रोहतक नई रेल लाइन वे लिए ५० प्रतिशत राश राज्य हिस्से वे रूप में देने की सहमत दी है। इस योजना को अगले तीन वर्षों में समयबद्ध तरीवे से पूरा किया जाएगा।

 

नई लाइनें

94.       मुझे यह उल्लेख करने में प्रसन्नता हो रही है क चंडीगढ़ -लुधियाना की चंडीगढ़ से मोरिंडा तक, देवघर-सुल्तानगंज की बांका-बाराहाट और हासन-बैंगलोर की हासन-श्रावणबेलगोला नई लाइनें पहले ही पूरी हो चुकी हैं। चालू वर्ष वे दौरान आरा-सासाराम की संजौली-बिकमगंज, बिश्रामपुर-अम्बिकापुर और कोलायत-फलौदी का एक हिस्सा पूरा किए जाने की आशा है। गांधीनगर-कलोल पर भी कार्य अंतिम चरण में है।

 

95.       २००६-२००७ में रेलवे का ५५० किलोमीटर नई लाइन का कार्य पूरा करने का प्रस्ताव है। इनमें निम्नलखितखंडशामिल हैं

आरा-सासाराम का बिकमगंज-आरा

मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी

बांसपानी-दइतारी का क्योंझार-दइतारी

सकरी-हसनपुर का सकरी-बिरौल

कुमारघाट-अगरतला का मनू-अगरतला

हथुआ-भटनी का हथुआ-बथुआ बाजार

उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला का उधमपुर-कटरा और काजीगुंड-बडगाम

पेद्दापल्ली-निजामाबाद का करीमनगर-जगत्याल

 

96.       इन खंडों वे पूरा हो जाने पर आरा-सासाराम, मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी, दइतारी-बांसपानी और कुमारघाट-अगरतला की नई लाइन परियोजनाएं पूरी हो जाएंगी।

आमान परिवर्तन

 

97.       सिवंदराबाद-मुदखेड वे सिवंदराबाद-बोलारम, जोगबनी-कटिहार-राधिकापुर वे  बरसोई-राधिकापुर, अरसीवेरै-हसन-मंगलौर वे सकलेशपुर-सुब्रामणिया रोड, और  कप्तानगंज-थावे-सिवान-छपरा वे थावे-सिवान खंडों का आमान परिवर्तन पहले ही पूरा हो चुका है। इसवे अलावा, चालू वर्ष वे दौरान दिल्ली-रेवाड़ी, कानपुर-कासगंज-मथुरा वे कानपुर-फरर्ुखाबाद, गांधीधाम-पालनपुर वे पालनपुर-समख्याली, तंजावूर-विल्लुपुरम वे कुम्बाकोणम-माइलाडुतुरै,कुालूर-सेलम वे वृद्धाचलम-अट्टूर और त्रिची-नागौर-कराइकल वे तंजावूर-तिरूवारूर खंडों का आमान परिवर्तन पूरा होने की संभावना है।

 

98.       वर्ष २००६-२००७ वे दौरान १,१०० किलोमीटर से अधिक आमान परिवर्तन पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इन खंडों में शामिल हैं

जयनगर-नरकटियागंज का जयनगर-दरभंगा

लमडिंग-डिब्रूगढ़ का सेनचोवा-सिलघाट

जोगबनी-कटिहार-राधिकापुर का कटिहार-बरसोई

अजमेर-उदयपुर का अजमेर-चित्तौडगढ़

मुदखेड-अदिलाबाद का किनवत-मुदखेड

बांकुरा दामोदर रेलवे लाइन का सोनामुखी-रायनगर

क्विलोन-तिरूनेलवेली-तिरूचेंदूर, तेनकासी-विरूदुनगर का तिरू नेलवेली-तिरूचेंदूर

कुड्डालूर-सेलम का अट्टूर-सेलम

तंजावूर-विल्लुपुरम का माइलाडुतुरै-विल्लुपुरम

तिरुची-मानामदुरै का पुद्दूकोटै-करइक्कुड

सोलापुर-गदग का बसावनाबागेवाड-बागलकोट

मैसूर-चामराजनगर

नीमच-रतलाम

गांधीधाम-पालनपुर का समख्याली-गांधीधाम

दोहरीकरण

 

99.       २००५-२००६ वे दौरान लगभग ३०० किलोमीटर दोहरीकरण पूरा किए जाने की संभावना है जबक वर्ष २००६-२००७ वे लिए ४३५ किलोमीटर का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अगले वर्ष वे दौरान उत्तर प्रदेश में गोंडा-मनकापुर, छिउंकी-लोहगरा-कटियाडांडी,  कानपुर-पनकी तीसरी लाइन, भीमसेन-जूही, बिहार में छपरा-हाजीपुर, छपरा-एकमा,  महेशखुंट-थाना बीहपुर, कुरसेला-सेमापुर, कर्नाटक में यशवंतपुर-तुमकुर, होसपेट-तोरणगल्लू, उड़ीसा में टिटलागढ़-वेसिंगा, संबलपुर-सराला, झारसूगुडा बाईपास, मध्य प्रदेश में कालापीपल-फांदा, पश्चिम बंगाल में सिंगूर-नालीकुल, बरूईपुर-धापधापी, बंसबेरिया-त्रिवेणी, वेरल में एर्णाकुलम-मुलनतुरूत,कयानकुलम-मावेलीकारा तथा पंजाब व जम्मू एवं कश्मीर में जालंधर-जम्मू तवी वे ७८ किलोमीटर खंड वे दोहरीकरण कार्यों वे पूरा होने से कुछ घने मार्गों पर लाइन क्षमता में वृद्ध होगी। पटना-गया लाइन वे दोहरीकरण कार्य में तेजी लाकर अगले दो वर्षों में पूरा किया  जाएगा।

13.28 hrs.

(At this stage, Shri Sansuma Khunggur Bwiswmuthiary

came and stood near the Table)

 

100.    माननीय सदस्यों को यह जानकर प्रसन्नता होगी क बजट में मनोहराबाद-कोथापल्ली, छपरा-मुजफ्फरपुर वाया गरखा, मवेर, रीवाघाट तथा ओबलावरपल्ली-कृष्णापट्टनम नई लाइन परियोजनाओं को शामिल किया गया है। अररिया-गलगलिया, छोटा उदेपुर-धार एवं टिंडीवणम-तिरुवन्नामलई वाया जिंजी वे बीच नई लाइन, अलुवावाड़ी-सिलीगुड़ी आमान परिवर्तन एवं चेंगलपट्टू-वेल्लूपुरम दोहरीकरण वे प्रस्ताव योजना आयोग को भेजे गये हैं। अपेक्षित स्वीकृत मिलने पर निर्माण कार्यों को हाथ में लिया जाएगा। आमान परिवर्तन की विरूद्नगर-मानामदुरै, कोलार-चिकबल्लापुर,डिंडीगुल-पोलाची-पालघाट, पोलाची-कोयंबटूर तथा भरूच-सामनी-दहेज योजनाओं को शामिल किया गया है। दोहरीकरण वे पदापहाड़-बांसपानी, गुंटूर-कृष्णावैनाल, दौसा-बांदीकुई, मुंडेरवा-बभनान, गोरखपुर-बैतालपुर, घाघराघाट-चौकाघाट, भटनी-जीरादेई तथा चेंगानूर-चिंगावनम कार्यों को बजट में शामिल किया गया है। इसवे अतरित्त संबलपुर-टिटलागढ़, खोदरी-अन्नूपुर व उतरेतिया-सुल्तानपुर-जफराबाद वे १४८ किलोमीटर खंड वे दोहरीकरण, विजयानगरम-कोटवलासा तीसरी लाइन तथा तुगलकाबाद-पलवल चौथी लाइन वे कार्यों को भी बजट में शामिल किया गया है।

रेल विद्युतीकरण

 

101.    दसवीं पंचवषर्ीय योजना वे लिए निर्धारित १८०० रूट किलोमीटर वे  विद्युतीकरण वे लक्ष्य वे विरूद्ध १२८० रूट किलोमीटर का विद्युतीकरणकरदिया गया है एवं आगामी वर्ष वे अंत तक निर्धारित लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाएगा। मुझे सदन को यह जानकारी देते हुए हर्ष हो रहा है क स्वर्िणम चतुभर्ुज वे चेन्नै-कलकत्ता रूट का विद्युतीकरण कार्य पूरा कर विद्युतचालित ट्रेन सेवाएं प्रारंभ कर दी गई हैं। इस वर्ष वे अंत तक अर्नाकुलम-त्रिवेंद्रम खंड वे विद्युतीकरण का कार्य भी पूरा कर लिया जाएगा।  थ्रूपुट संवर्द्धन वे लिए सार्वजनिक उपकमों की विद्युतीकृतमार्गों पर अवस्थित डीजल साइडिंग वे विद्युतीकरण का कार्य भी तेजी से चल रहा है। बाराबंकी-गोंडा-गोरखपुर-छपरा-बरौनी-कटिहार-गौहाटी रेल मार्ग वे विद्युतीकरण हेतु फजबलिटी स्टडी कराई जाएगी। 

सवर्ेक्षण

 

102.    पिछले दो वर्षों वे दौरान अनेक सवर्ेक्षण शुरू  किए गए हैं। ६५ सवर्ेक्षण पूरे किए जा चुवे हैं। शेष सवर्ेक्षण वभिन्न चरणों में प्रगत पर हैं। नई परियोजनाओं को शुरू करने वे लिए माँग बराबर आती रही है जिन्हें चालू परियोजनाओं की लंबी सूची तथा सीमित संसाधनों वे मद्देनजर स्वीकार करना कठिन है। फिर भी, मांगों वे आधार पर निम्नलखित सवर्ेक्षण शुरू किए जाने का प्रस्ताव है

नई लाइनें

प्रांतिक-सिउरी

मुरकोंगसेलेक-पासीघाट

कुशेश्वरस्थान-सहरसा

गुंजरिया-गजोल

लोहारू -भिवानी

रामामंडी-मौर मंडी वाया तलवंडी साहिब

खुर्जा-राया वाया मत, सुरीर, बाजना

टनकपुर-बागेश्वर

टोंक एवं देवली वे लिए रेल लिंक

अनुपगढ़-कोलायत वाया खाजूवाला

खम्मम-पोदात्तूर

एडापल्ली-गुरूवायूर

सबरीमाला-चेंगान्नूर

नागापटि्टन-थिरूचेरायपुंडी

इरोड-सत्यमंगलम

तालगुप्पा-होनावर

सिवोक-रैंगपो

कल्याण-अहमदनगर

लोहना-मुत्तापुर वाया अलीनगर, त्रिमुहानी, बहेड़ी, शिवाजीनगर

सीतामढ़ी-जयनगर वाया सुरसंड, भीठामोड

भगवानपुर-समस्तीपुर बरास्ता महुआ-पातेपुर-ताजपुर

वीर-हरी हरेश्वर

लालगंज-बछरावां बरास्ता गुरूबख्श गंज

13.30 hrs.

 

(At this stage, Shri Sansuma Khunggur Bwiswmuthiary

went back to his seat.)

 

आमान परिवर्तन

कोसंबा-उमरपाडा

दोहरीकरण

कोरापुट-किरंडुल

कोट्टावलासा-कोरापुट

भद्रक-नरगुंडी तीसरी लाइन

हाजीपुर-बछवाडा

मुजफ्फरपुर-हाजीपुर

बरूईपुर-सियालदह तीसरी लाइन

लखनऊ -वाराणसी वाया रायबरेली, अमेठी

बर्नपुर-आसनसोल

 

उपनगरीय परिवहन परियोजनाएं

 

103.    महोदय, माननीय सदस्यों ने अनेक बार मुझे मुंबई शहर की उपनगरीय रेल सेवा समस्या से अवगत कराया है। इन सेवाओं में सुधार एवं बढ़ोत्तरी वे लिए डीसी-एसी परिवर्तन का कार्य प्रगत पर है। मुझे सदन को जानकारी देते हुए हर्ष हो रहा है क पिछले सप्ताह इस कार्य वे पहले चरण में मध्य रेलवे वे इगतपुरी-कसारा घाट सेक्शन वे बीच डीसी-एसी परिवर्तन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। वर्ष २००६-२००७ में कसारा से टिटवाला खंड पर भी परिवर्तन का कार्य पूरा हो जाएगा। तत्पश्चात् मुंबई सीएसटीएम एवं चर्चगेट तक का परिवर्तन कार्य आगामी वर्षों में चरणबद्ध कम से पूरा किया जाएगा। वर्तमान प्रणाली की सीमाओं वे बावजूद उपनगरीय रेल यात्रियों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए मैंने आगामी वित्तीय वर्ष में चार और अतरित्त रेक पश्चिम रेलवे की उपनगरीय सेवाओं हेतु उपलब्ध कराने का आदेश दिया है। इसवे अतरित्त दो और रेक मध्य रेलवे वे थाणे-तुबर्े खंड पर यात्री सेवाओं वे लिए मार्च २००७ तक उपलब्ध हो जाएंगे।

 

104.    मुझे यह उल्लेख करते हुए खुशी हो रही है क कोलकाता सवर्ुलर रेलवे का प्रिंसेपघाट से मांझेरहाट तक का विस्तार कार्य पूरा हो गया है तथा इसे यातायात वे लिए खोल दिया गया है। दमदम से नेताजी सुभाष चंद्र बोस एयरपोर्ट तक का विस्तार कार्य जल्दी ही पूरा हो जाएगा। चेन्नै एमआरटीएस पर तिरूमलै-वेलाचेरी चरण-II का तिरूमलै-तिरूवामनियूर खंड पहले ही खोला जा चुका है। तिरुवामनियूर से वेलाचेरी तक शेष खंड पर कुछ भू-तकनीकी समस्याएं रही हैं जिनका निवारण किया जा चुका है और इस खंड को २००६-२००७ वे दौरान पूरा किए जाने का लक्ष्य है।

 

105.    महोदय, सदन को बताते हुए हर्ष हो रहा है क चेन्नै एमआरटीएस वे वेलाचेरी से सेंट थॉमस माउंट वे विस्तार का कार्य बजट में शामिल किया गया है।

२००६-२००७ वे लिए बजट अनुमान.

 

106.    महोदय, अब मैं २००६-२००७ वे बजट अनुमानों की चर्चा करूंगा ।

 

107.    वर्ष २००६-२००७ वे दौरान पेट लोडिंग का लक्ष्य ७२६ मलियन टन एवं ४७९ बलियन टन किलोमीटर रखा गया है। माल, यात्री एवं पार्सल व्यवसाय में डबल डजिट ग्रोथ को बनाये रखते हुए माल एवं यात्री व्यवसाय की आमदनी का लक्ष्य ११ प्रतिशत की वृद्ध दर पर एवं अन्य कोचिंग आय का लक्ष्य १९ प्रतिशत की वृद्ध दर पर निर्धारित किया गया है।  वर्ष २००६-०७ में माल आमदनी ४० हजार ३२० करोड़ रूपये, यात्री आय १६ हजार ८०० करोड़ रूपये, अन्य कोचिंग आय 1 हजार ४०० करोड़ रूपये एवं ‘अन्य वविध’ आय  १ हजार ३०८ करोड़ रूपये होने की आशा है।  इन अनुमानों वे आधार पर तथा माल एवं यात्री व्यवसाय वे युत्तिकरण संबंधी उपायों वे फलस्वरूप सकल यातायात प्राप्तियां ५९ हजार ९७८ करोड़ रूपये होने का अनुमान है। ये चालू वित्त वर्ष वे संशोधित अनुमानों से ५ हजार २७८ करोड़ रूपये अधिक हैं।

 

108.    रेलवे का साधारण संचालन व्यय ३८ हजार ३०० करोड़ रूपये होने का अनुमान है जो क चालू वर्ष वे संशोधित अनुमान से लगभग ९ प्रतिशत अधिक है। पेंशन पंड एवं मूल्य ह्रस आरक्षित नध में कमश: ७ हजार ७९० करोड़ रूपये तथा 4 हजार ३०७ करोड़ रूपये वे वनियोग का प्रस्ताव है। इस प्रकार कुल संचालन व्यय ५० हजार ३९७ करोड़ रूपये होगा जिससे शुद्ध यातायात प्राप्तियां ९ हजार ५८१ करोड़ रूपये होंगी। बजट अनुमानों वे अनुसार भारतीय रेल वे लाभांश पूर्व आंतरिक संसाधन १४ हजार २९३ करोड़ रूपये और आपरेटिंग रेशियो  ८४.३ प्रतिशत होने की आशा है। आगामी वर्ष वे अंत में पंड बैलेंस वे १२ हजार ८१९ करोड़ रूपये वे स्तर पर रहने का अनुमान है।

 

109.    वर्ष २००६-२००७ वे लिए सामान्य राजस्व को देय लाभांश की दर वे बारे में एक ज्ञापन इस समय रेलवे कन्वेंशन कमेटी वे विचाराधीन है। २००५-२००६ वे लिए अनुशंसित दर ६.५ प्रतिशत वे आधार पर वर्ष २००६-२००७ की लाभांश दायिता ३ हजार २०८ करोड़ रूपये बनती है। ६६३ करोड़ रूपये वे आस्थगित लाभांश वे भुगतान वे साथ-साथ सामान्य राजस्व को ३ हजार ८७१ करोड रुपए का भुगतान किया जाना है। इस दायिता का पूरी तरह भुगतान कर दिया जाएगा।

 

110.    इस वर्ष वे योजना परिव्यय की आवश्यकताओं को पूरा करने वे लिए आंतरिक रुाोतों से १० हजार ७९४ करोड़ रूपये उपयोग हेतु प्राप्त होने की संभावना है।

 

मालभाडा एवं यात्री किराए संबंधी प्रस्ताव

 

डायनामिक  प्राइसिंग पॉलिसी

 

111.    रेलवे वे यात्री किराये एवं माल भाडा की दरें सभी सीजन और सभी मार्गों पर एक समान रहती हैं जबक एयरलाइंस एवं रोड ट्रांसपोर्ट की दरें माँग एवं समय वे हिसाब से घटती बढ़ती रहती हैं। कड़ी प्रतिस्पर्धा से उत्पन्न चुनौतियों का प्रभावी तरीवे से सामना करने वे उद्देश्य से हमने चालू वर्ष में नॉन पीक सीजन एवं एम्प्टी फ्लो डायरेक्शन में मालभाडा दरों में डिस्काउंट देने की योजना शुरू  की थी। इसवे अच्छे परिणाम सामने आये हैं। अत: इस रणनीत को सुद्ृढ़ करते हुए अब माल तथा यात्री परिवहन दोनों में पीक एवं नॉन पीक सीजन, प्रीमियम एवं नॉन प्रीमियम सेवा और व्यस्त एवं गैर व्यस्त मार्गों वे लिए डायनामिक  प्राइसिंग पॉलिसी अपनाई जाएगी । इस नीत वे तहत नॉन पीक सीजन, नॉन प्रीमियम सर्िवस एवं एम्प्टी फ्लो डायरेक्शन की दरें  सामान्य दरों से कम एवं पीक सीजन तथा प्रीमियम सर्िवस की दरें सामान्य से अधिक हो सकती हैं। माल व्यवसाय वे लिए नॉन पीक सीजन १ जुलाई से ३१ अक्टूबर होगा। यात्री व्यवसाय वे लिए यह अवध १५ जनवरी से १५ अप्रैल एवं १५ जुलाई से १५ सितंबर तक होगी।

 

112.    महोदय, प्राय: आम जनता आशंकित रहती है क रेल बजट वे समय यात्री किराया एवं मालभाडा बढ़ेगा। मेरे द्वारा प्रस्तुत किये गये प्रत्येक रेल बजट में यह आशंका निमर्ूल साबित हुई है। मेरी नजर में प्रतियोगी बाजार में सफल होने का मूल मंत्र दाम बढ़ाना नहीं बल्क लागत में कमी का लाभ ग्राहकों तक पहुँचाना है। इस बात को मैं इन शब्दों में व्यत्त करना चाहूँगा –

                       

आम आदमी ही हमारा देवता है

                        वह जीतेगा तो हम भी जीत पायेंगे

                        तभी तो यह तय करवे बैठे हैं

                        पैसले अब उसी वे हक़ में जाएंगे।

 

113.    आम आदमी वे हक़ में पैसला लेते हुए ही मैंने गत वर्ष पूरक बजट पर चर्चा वे दौरान यात्री किराये में 1 रूपये प्रत टिकट एवं खाली लौटती मालगाडियों वे भाड़े में २० प्रतिशत तक की कटौती की घोषणा की थी। इस प्रकिया को आगे बढ़ाते हुए मैं यात्री एवं माल सेवाओं वे दामों में वृद्ध नहीं अपितु 30 प्रतिशत तक की निम्नांकित कटौतियों की घोषणा करता हूं:

 

 मालभाडा सेवाएं

 

114.         २००६-२००७ वे लिए मालभाडा दरों में सामान्य वृद्ध करने का मेरा कोई प्रस्ताव नहीं है।

 

115.    महोदय, गुड्स टैरिफ को सरल एवं युत्तिसंगत बनाने वे लिए मैंने गत वर्ष वस्तुओं वे वगर्ीकरण की 4 हजार से अधिक श्रेणियों को घटाकर ८० कर दिया था। फलस्वरूप ५०० से अधिक पन्नों वाला मोटा गुड्स टैरिफ कुछ ही पन्नों में सिमट गया था। इस प्रकिया को आगे बढयाते हुए मैं इन श्रेणियों को घटाकर मात्र २८ करने का प्रस्ताव करता हूँ। २००५-०६ मेंमालभाडा संरचना की कुल श्रेणियाँ २७ से घटाकर १९ कर दी गई थीं एवं उच्चतम श्रेणी-२५० को घटाकर २४० कर दिया गया था। अगले वर्ष उत्त उच्चतम श्रेणी को घटाकर २२० करने का प्रस्ताव करता हूँ। इससे डीजल और पेट्रोल वे माल भाड़े में लगभग 8 प्रतिशत की कमी होगी। अगले तीन वर्षों में उच्चतम श्रेणी को घटाकर २०० वे नीचे लाया जाएगा। अगले 3 वर्षों में कुछ हल्की वस्तुओं की दरो को छोडकर माल भाड़े की न्यूनतम एवं अधिकतम दरों में अंतर दोगुने से कम किया जाएगा। 

 

116.    माल भाडा दरों की युत्तिकरण प्रकिया से हल्की वस्तुओं वे माल भाड़े में अत्यधिक वृद्ध न हो यह सुनिश्चित करने वे लिए मैंने ऐसी वस्तुओं वे माल भाड़े को प्रभारित करने वे लिए श्रेणी ९० डब्ल्यू१, ९० डब्ल्यू२ और ९० डब्ल्यू३ बनाने की घोषणा की थी। लेकिन इन श्रेणियों की दूरी नो प्रॉफिट नो लॉस की श्रेणी १०० से एक समान नहीं है। अत: इन श्रेणियों को एलआर1, एलआर२, एलआर३, एलआर4 और एलआर5 में परिवर्ितत करने का प्रस्ताव करता हूँ। ये नई श्रेणियाँ, कमश: श्रेणी-१०० वे ९०, ८०, ७०, ६० और ५० प्रतिशत वे बराबर होंगी।

MR. DEPUTY SPEAKER : Silence please.

…(Interruptions)

 

श्री लालू प्रसाद: नॉन पीक सीजन इन्क्रीमेंटल फ्रेट डिस्काउंट स्कीम

 

117.    मानसून वे कारण १ जुलाई से ३१ अक्टूबर तक माल परिवहन की माँग कम हो जाती है। अत: इस अवध में नॉन पीक सीजन इन्क्रीमेंटल फ्रेट डिस्काउंट स्कीम वे तहत एक माह में 5 करोड रुपए से अधिक की इन्क्रीमेंटल फ्रेट अनिर्ंंग पर माल भाड। में १५ प्रतिशत एवं इससे कम पर 10 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। यह छूट कोयला, खनिज एवं १२० श्रेणी से नीचे वगर्ीकृत वस्तुओं को छोडकर अन्य सभी वस्तुओं वे परिवहन पर उपलब्ध होगी।

 

एम्प्टी फ्लो डायरेक्शन इन्क्रीमेंटल फ्रेट डिस्काउंट स्कीम

 

118.    महोदय, दिल्ली से गौहाटी जाने का ट्रक भाडा गौहाटी से दिल्ली वापस लौटने वे भाड़े से काफी अधिक होता है, जबक रेलवे दोनों तरफ का एक समान भाडा चार्ज करती है। यह देखा गया है क हमारी सौ में से चालीस माल गाडियाँ वापसी की दिशा में खाली लौटती हैं। खाली लौटती मालगाडियों में फ्रेट लोड करने पर रेलवे का अतरित्त खर्चा काफी कम होता है। अत: एम्प्टी फ्लो डायरेक्शन में लोड किये गये इन्क्रीमेंटल फ्रेट ट्रैफिक पर भारी डिस्काउंट देने की घोषणा करता हूँ। ७०० किलोमीटर से अधिक की दूरी वे इन्क्रीमेंटल फ्रेट पर यह डिस्काउंट नॉन पीक सीजन में 30 प्रतिशत एवं पीक सीजन में २० प्रतिशत वे बराबर होगा। यह योजना कवर्ड वैगन में लोड की गई सभी प्रकार की वस्तुओं पर लागू होगी। ओपन वैगन में कोयला, कोक तथा निर्यात वे लिए लोड किये गये आयरन ओर को छोडकर सभी वस्तुओं पर यह डिस्काउंट मिलेगा। पीक सीजन वे दौरान ओपेन वैगनों में एक हजार किलोमीटर से अधिक वे फ्रेट पर ही यह डिस्काउंट उपलब्ध होगा।

 

लॉयल्टी डिस्काउंट स्कीम

 

119.    सीमेंट एवं आयरन एंड स्टील वे परिवहन में रेल की हिस्सेदारी को बढ़ावा देने वे लिए मैं लॉयल्टी डिस्काउंट स्कीम की घोषणा करता हूँ। इस स्कीम वे अंतर्गत नॉन पीक सीजन में किसी स्टील अथवा सीमेंट पैक्ट्री वे कुल उत्पादन में रेल परिवहन की हिस्सेदारी ९० प्रतिशत से अधिक होने पर माल भाड़े में एक प्रतिशत एवं 50 प्रतिशत से अधिक विंतु 90 प्रतिशत से कम हिस्सेदारी होने पर आधे प्रतिशत वे बराबर लॉयल्टी डिस्काउंट दिया जाएगा। यह डिस्काउंट वेवल नर्िमत वस्तुओं वे परिवहन पर उपलब्ध होगा। इन उद्योगों में उपयोग होने वाले कच्चे माल अथवा क्लिंकर वे परिवहन पर यह डिस्काउंट देय नहीं होगा।

 

लांग टर्म फ्रेट डिस्काउंट स्कीम

 

120.    व्यापारीगण दीर्घकालिकआधार पर माल परिवहन की व्यवस्था करना चाहते हैं। अत: हमने जोनल रेलवे प्रशासन को नये ग्राहकों अथवा नया फ्रेट ट्रैफिक प्राप्त करने वे लिए लांग टर्म फ्रेट डिस्काउंट ऑफर करने वे लिए अधिकृत किया है। इस योजना वे तहत जोनल प्रशासन तीन वर्ष तक की अवध वे लिए सामान्य माल भाडा दरों में नॉन पीक सीजन में 20 प्रतिशत तक एवं पीक सीजन में १० प्रतिशत तक डिस्काउंट ग्राहकों को दे सवेंगे। एम्प्टी फ्लो डायरेक्शन में लोडिंग होने पर डिस्काउंट नॉन-पीक सीजन में ३० प्रतिशत एवं पीक सीजन में २० प्रतिशत तक दिया जा सकता है।

 

टर्िमनल इन्सेन्टिव सह इंजन ऑन लोड स्कीम

 

121.    वैगन टर्न राउंड टाइम में कमी लाने वे उद्देश्य से गत बजट में की गई घोषणा वे अनुरूप हमने एक नई टर्िमनल इन्सेन्टिव सह इंजन ऑन लोड स्कीम तैयार की है। इस स्कीम की शर्तों को पूरा करते हुए जो ग्राहक लोडिंग-अनलोडिंग में लगने वाले समय को घटाने वे लिए अपने टर्िमनल में निवेश करेंगे तथा कम समय में लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य पूरा करेंगे उन्हें पहले वर्ष मालभाड़े में 5प्रतिशत की रिबेट दी जाएगी। यह रिबेट उत्तरोत्तर घटती हुई दरों पर 10 वर्षों तक उपलब्ध कराई जाएगी। पाँचवे वर्ष से यह रिबेट एक प्रतिशत वे बराबर होगी।

 

मिनी रेक एवं टू-प्वाइंट रेक स्कीम

 

122.    मिनी रेक एवं टू-प्वाइंट रेक योजना की लोकप्रियता को देखते हुए यह सुविधा अब पीक एवं नॉन-पीक दोनों ही सीजन में उपलब्ध होगी।  नॉन पीक सीजन में मिनी रेक एवं टू-प्वाइंट रेक बिना किसी अतरित्त चार्ज वे उपलब्ध कराये जाएंगे जबक पीक सीजन में श्रेणी १३० तक की वस्तुओं की लोडिंग पर ऐसे रेक वे लिए मालभाडा ब्लॉक रेक गाडियों वे माल भाड़े से ५ प्रतिशत अधिक होगा। 

 

पेट फारवर्डर स्कीम

 

123.    पीस मील ट्रैफिक में रेलवे की हिस्सेदारी बढ़ाने वे लिए मैं एक नई फ्रेट फारवर्डर स्कीम की घोषणा करता हूँ। इस योजना वे तहत माल बुक करने पर नॉन पीक सीजन में एम्प्टी फ्लो डायरेक्शन में लोडिंग करने का मालभाड़े की श्रेणी एलआर२ वे बराबर एवं लोडेड डायरेक्शन में श्रेणी १०० वे बराबर होगा। पीक सीजन में यह भाडा कमश: श्रेणी 100 एवं 130 वे बराबर होगा। राउंड टि्रप लोडिंग अर्थात् दोनों तरफ की लोडिंग एक साथ उपलब्ध कराये जाने पर यह भाडा नॉन पीक सीजन में एलआर२ एवं पीक सीजन में एलआर१ वे बराबर होगा। यह योजना सात सौ किलोमीटर से अधिक वे ही फ्रेट पर लागू होगी।

 

यात्री सेवाएं

 

124.    महोदय, रेलवे की मजबूत वित्तीय स्थित वे परिवेश में मैं नये सपनों की रूपरेखा प्रस्तुत कर रहा हूँ।

 

                        मैंने देखे हैं सारे ख्वाब नए

                        लिख रहा हूँ मैं इंक़लाब नए

 

125.    एसी प्रथम एवं एसी द्वितीय श्रेणी का यात्री किराया साधारण श्रेणी वे यात्री किराये से कमश: चौदह एवं सात गुने से भी अधिक है। इससे एसी क्लासेस में हमारी प्रतियोगी क्षमता कमजोर हुई है जिसका प्रतिकूल असर इन श्रेणियों की ऑक्यूपेन्सी पर पड रहा है। अत: मैं मालभाडा संरचना की तरह यात्री किराया संरचना का भी युत्तिकरण करने का प्रस्ताव करता हूँ। नई संरचना में एसी प्रथम एवं एसी द्वितीय श्रेणी का किराया साधारण श्रेणी वे किराये से क्रमश: साढ़े ग्यारह एवं साढ़े छ: गुना होगा। इस प्रस्ताव से एसी प्रथम श्रेणी वे किराये में लगभग १८ प्रतिशत एवं एसी द्वितीय श्रेणी वे किराये में १० प्रतिशत की कमी होगी। अगले तीन वर्षों में युत्तिकरण की इस प्रकिया को आगे बढ़ाते हुए रेल की प्रतियोगी धार को और पैना बनाया जाएगा।

 

फुल्ली एयरवंडीशंड गरीब रथ

 

126.    महोदय, यात्रियों को लंबी दूरी की गाडियों में पूर्णत: वातानुकूलित परंतु सस्ती सेवा उपलब्ध कराने वे उद्देश्य से पायलट बेसिस पर फुल्ली एयरवंडीशंड गरीब रथ चलाने का निर्णय लिया है। शुरू में ये सुपरफास्ट एसी गरीब रथ दिल्ली-पटना, दिल्ली-मुंबई, दिल्ली-चेन्नै एवं सहरसा-अमृतसर वे बीच शुरू की जाएगी। इन गाडियों वे यात्री किराये वर्तमान एसी थ्री टियर वे किराये से लगभग २५ प्रतिशत कम होंगे। सस्ती एसी सेवा उपलब्ध कराने की कड़ी में हम डबल डेकर फुल्ली एयरवंडीशंड यात्री गाडाृ भी प्रारंभ करने का प्रयास करेंगे।

 

127.    हमने  यात्रियों की सुविधा वे लिए मन्थली सीजन टिकट वे नवीनीकरण की अवध तीन दिन से बढ़ाकर दस दिन कर दी है। साथ ही एमएसटी एवं क्यूएसटी पर लगने वाले सुपर फास्ट अधिभार को घटाकर वर्तमान का एक चौथाई कर दिया है। यह आप डिसाइड नहीं करेंगे, जनता डिसाइड करेगी ।

 

128.    रेलवे पेयर एवं फ्रेट कमेटी एवं अन्य कमेटियों ने मलिट्री गुड्स एवं कोचिंग टैरिफ की जटिल प्रकिया को सरल बनाकर युत्तिकृत करने की अनुशंसा की थी। अत: हमने नो प्रॉफिट नो लॉस वे सिद्धांत वे आधार पर मलिट्री टैरिफ निर्धारण की प्रकिया को सरलीकृत एवं युत्तिसंगत बनाने का निर्णय लिया है। अब इनका टैरिफ कुछ वर्ष पूर्व की लागत वे आधार पर न होकर वर्तमान लागत पर नो प्राफिट नो लॉस वे आधार पर निर्धारित होगा। इसी प्रकार पार्सल एवं लगेज टैरिफ का भी युत्तिकरण किया गया है।

 

उपसंहार

 

129.    महोदय, रेलवे द्वारा हासिल की गई सफलता माननीय प्रधानमंत्री जी वे कुशल मार्ग दर्शन और यू.पी.ए. चेयरपर्सन श्रीमती सोनिया गांधी जी के सहयोग से ही संभव हो पाया है। उन्होंने हमेशा हमारा मनोबल बढ़ाया है और सकारात्मक सहायता प्रदान की है। समस्त रेल परिवार की तरफ से मैं उनवे प्रत आभार प्रकट करता हूँ। मैं सभी रेलकर्िमयों वे प्रत भी अपना आभार व्यत्त करता हूँ जिन्होंने एक अच्छी टीम की तरह काम करते हुए सौंपे गए कार्यों को समर्पण और निष्ठा की भावना से पूरा किया है। हम यात्रियों और रेल उपयोगकर्ताओं को भी तहे दिल से धन्यवाद देते हैं जिनका सहयोग हमें बराबर मिलता रहा है और मुझे विश्वास है क यह भविष्य में भी मिलता रहेगा।

 

130.    महोदय, मैं रेल सेवा द्वारा राष्ट्र सेवा करने का अवसर पाने वे लिए अपने को सौभाग्यशाली मानता हूँ। मैं सदन को आश्वस्त करना चाहूंगा क हम रेल सेवा को उत्कृष्ट बनाते हुए जनता की आकांक्षाओं को पूरा करने वे लिए निरंतर प्रयासरत रहेंगे। माननीय सदस्यों ने रेलवे पर हुई चर्चा में हमेशा हमारी हौसला अफ़जाई की है। माननीय सदस्यों की भारतीय रेल वे प्रत यही भावना बनी रहे, इसी कामना वे साथ मैं कहना चाहूँगा क- 

 

ये इनायत नहीं मेरा विश्वास है

दौरे मँहगाई में रेल सस्ती रहे

अपना इनाम हमको तो मिल जाएगा

रेल पर आपकी सरपरस्ती  रहे.

 

131.    महोदय, इन शब्दों वे साथ मैं २००६-२००७ का रेल बजट सदन में संस्तुत करता हूँ।

MR. DEPUTY-SPEAKER:  The House stands adjourned to meet again at 3.30 p.m.

 

13.37 hrs. The Lok Sabha then adjourned till thirty minutes past Fifteen of the Clock.

 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

* Copy This Password *

* Type Or Paste Password Here *

66 queries in 0.123 seconds.